DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › कूड़ा फैलाने वालों पर अब लगेगा जुर्माना
इटावा औरैया

कूड़ा फैलाने वालों पर अब लगेगा जुर्माना

हिन्दुस्तान टीम,इटावा औरैयाPublished By: Newswrap
Sun, 26 Sep 2021 11:21 PM
कूड़ा फैलाने वालों पर अब लगेगा जुर्माना

इटावा। संवाददाता

प्रदेश सरकार ने शहरों को साफ-सुथरा बनाए रखने और कूड़े के निस्तारण के लिए नई व्यवस्था लागू करते हुए गंदगी फैलाने वालों पर 100 से 1000 रुपये तक जुर्माना लगाने का फैसला किया है। इसके साथ ही लोगों को कूड़ा उठवाने के एवज में तय फीस देनी भी होगी और बड़े प्रतिष्ठानों को लाइसेंस लेना होगा। कैबिनेट ने उत्तर प्रदेश ठोस अपशिष्ट (प्रबंधन, संचालन एवं स्वच्छता) नियमावली 2021 को मंजूरी दी है।

जिले के नगर निकायों में रोजाना करीब 200 टन कूड़ा निकलता है। सही मायनों में जिले में मानक के अनुसार कूड़े का निस्तारण नहीं हो रहा है। इससे स्वास्थ्य, स्वच्छता व पर्यावरण प्रभावित हो रहा है। नई नियमावली का उद्देश्य नगरीय निकायों में स्वच्छता बनाए रखने व ठोस अपशिष्ट प्रबंधन प्रणाली को तैयार करते हुए ठोस अपशिष्ट प्रबंधन के लिए शुल्क व नियमावली के प्रावधानों के उल्लंघन पर जुर्माना वसूलना है। यानी अब कूड़ा उठाने की जिम्मेदारी सिर्फ़ पालिका या नगर पंचायत की नहीं होंगी बल्कि जो कूड़ा फैलाएगा वहीं उसका प्रबंधन भी करेंगा। हालांकि जिन संसाधनों और कूड़ा निस्तारण की जिन विधियों का प्रयोग जिले में हो रहा है उसके एवज में सरकारी विभागों पर भी जुर्माना लगना तय है। अभी एक बड़ा सवाल है कि क्या नगरीय निकाय सरकारी विभागों से भी कूड़ा फैलाने पर जुर्माना वसूल पाएंगे, क्योंकि अब तक न तो यह कार्यवाही संभव हो पाई है और न ही इसको लेकर नगरीय निकायों की गंभीरता नजर आती है। वर्ष 2017 में ही नगर पालिका इटावा ने कूड़ा फैलाने को लेकर पालिका बोर्ड बैठक में जुर्माने का प्रावधान तय कर लिया था, लेकिन इस नियम के तहत न तो अब तक किसी पर कोई कार्यवाही की गई और न ही कोई चालानी कार्रवाई पालिका की ओर से की गई, हालांकि राज्य सरकार के निर्देश हैं की नई नियमावली के तहत सभी नगरी निकाय अपने यहां बोर्ड बैठकों का आयोजन करके इस नियमावली को स्वीकार करें और इसके तहत जुर्माने की कार्रवाई सुनिश्चित की जाए। अब देखना यह है कि नए जुर्माने के प्रावधान को पालिका कितनी गंभीरता से लागू करती हैं।

छह निकाय फिर भी केवल एक के पास कूड़ा निस्तारण प्लांट

इटावा। जिले में तीन नगर पालिकाओं इटावा, भरथना, जसवंतनगर के साथ तीन नगर पंचायत इकदिल, लखना, बकेवर हैं। 18 लाख से अधिक की आबादी के बावजूद केवल एक कूड़ा निस्तारण प्लांट नगर पालिका इटावा के पास संचालित है। सभी निकायों में नगर पालिकाओं में 1600 सौ से अधिक सफाई कर्मचारी कार्यरत हैं। रोजाना जिले में 200 टन से अधिक पूरा निकलता है जबकि इस प्लांट की निस्तारण क्षमता मात्र 15 टन है। वह भी पूर्ण क्षमता के साथ संचालित नहीं हो पाता, क्योंकि प्लांट अत्यधिक पुराना है। ऐसे में बाकी कूड़े का निस्तारण किस प्रकार होता है यह किसी से छुपा नहीं है। वर्तमान में भरथना में कूड़ा निस्तारण को लेकर एक नए प्लांट की स्थापना की जा रही है, लेकिन फिलहाल इसका संचालन भी संभव नहीं हो सका। बकेवर, लखना व इकदिल जैसे नगर पंचायतों के पास न तो कूड़ा निस्तारण की कोई नीति है और न ही उसके प्रबंधन को लेकर कोई प्रयास हुए।

संबंधित खबरें