DA Image
27 नवंबर, 2020|12:06|IST

अगली स्टोरी

कोरोना संकट से इस बार नही होगा दशहरा पर रावण दहन

कोरोना संकट से इस बार नही होगा दशहरा पर रावण दहन

कोरोना के कहर ने मानव सभ्यता की उन परम्पराओं को भी परिवर्तित कर दिया जिन्हें न सिर्फ धार्मिक बल्कि वैज्ञानिक दृष्टि से भी तर्क संगत माना जाता है। वैश्विक महामारी ने सभी को घरों में रहने को मजबूर किया और अब भी इसके खतरे से लोग बच नही पाये है। शायद यही कारण है कि सैकड़ो वर्षो पुरानी रावण दहन की परम्परा पर इस बार ग्रहण लग गया। नवरात्र की शुरुआत से जिले में छोटी बड़ी 16 रामलीलाओं का आयोजन किया जाता रहा है। इनमें जिले के रामलीला मैदान की 135 वर्ष पुरानी लीला भी शामिल है। इस बार न तो यहाँ रामलीला का आयोजन किया जा सका और न ही विजय दशमी को रावण दहन सम्भव होगा। समिति ने अधिक भीड़ की आशंका से आयोजन को रद्द किया किया है। विजय दशमी का पर्व बुराई की अच्छाई पर जीत का प्रतीक है इसी प्रतीक रूप में रावण के पुतले को जलाया जाता है। यह परम्परा जिले की सबसे प्राचीन परम्पराओं में शामिल है। रामलीला के अंतिम दिन विजय दशमी को राम- रावण युद्ध की लीला का मंचन किया जाता है। जिसके बाद शाम 6 बजे सबसे पहले मेधनाथ का पुतला जलाया जाता है। इसके बाद कुम्भकर्ण व अंत मे रावण का पुतला आतिशबाजी के साथ जल उठता था। रामलीला समिति के महामंत्री संजय दुबे पप्पन का कहना है बीते साल तक पांच हजार से अधिक लोग रावण दहन के दौरान रामलीला मैदान में जुटते रहे है। ऐसे में इस बार भीड़ की आशंका से आयोजन रद्द कर दिया गया। यह आयोजन बच्चों के लिए मुख्य आकर्षण भी रहता है जबकि सरकार की गाइडलाइंस में छोटे बच्चों को बाहर न निकलने के निर्देश है। बिना बच्चों के और इतनी भीड़ की आशंका के कारण इस प्रकार का आयोजन सम्भव नही है। अगले वर्ष फिर से लीला का मंचन व रावण दहन किया जाएगा। महेवा स्थित रामजानकी मन्दिर प्रांगण में 120 वर्षो बाद आयोजन को रद्द किया गया है। यहाँ 15 दिवसीय रामलीला के आयोजन के बाद चौदस को रावण वध के साथ तीन दिवसीय मेला लगता रहा है जो इस वर्ष नहीं होगा। मंदिर ट्रस्ट को रामलीला आयोजन की अनुमति नही मिलने व भारी भीड़ की आशंका के चलते तथा ब्लॉक का अंतिम विशाल मेला होने से मेले के दिन करीब दस हजार की भीड़ होने की आशंका थी। मन्दिर ट्रस्ट के उप प्रशासनिक अधिकारी श्रीभगवान दुबे ने बताया कि न तो रामलीला का आयोजन किया गया और न ही मेला का आयोजन होगा।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Ravana burning on Dussehra will not happen this time due to corona crisis