DA Image
2 दिसंबर, 2020|5:57|IST

अगली स्टोरी

आसई अतिशय क्षेत्र में प्रथम बार हुआ महामस्तिकाभिषेक

आसई अतिशय क्षेत्र में प्रथम बार हुआ महामस्तिकाभिषेक

आसई जैन तीर्थ क्षेत्र में पहली बार महामस्तिकाभिषेक हुआ। भ्रमण कर रहे मेडिटेशन गुरु मुनिश्री 108 विहसंत सागर महाराज के सानिध्य में यह कार्यक्रम हुआ। आसई अतिशय क्षेत्र में संग्रहालय का भूमि पूजन मंत्रों द्वारा किया गया। शांतिनाथ भगवान अरहनाथ भगवान कुंथनाथ भगवान का महामस्तिकाभिषेक पुजारियों ने इंद्र बनकर कलशो से किया। मेडिटेशन गुरु मुनिश्री 108विहसंत सागर महाराज के मुखारविंद से भगवान पर शांति धारा पुजारियों ने की।

इस अवसर पर विहसंत महाराज ने कहा कि भगवान महावीर स्वामी की चार्तुमास भूमि अतिशय क्षेत्र आसई मे प्रथम बार महामस्तिकाभिषेक एंव जिनेन्द्र महाअर्चना हुई है। यह मूर्ति बहुत ही चमत्कारी है इसके शांतिनाथ विधान संगीत के साथ संपन्न हुआ और हवन मंत्रो के साथ आहुतियां भी दी गई । मेडिटेशन गुरु विहसंत सागर महाराज के सांनिध्य मे गरीबों को सामग्री वितरण की गई जिसमे पं सदीप शास्त्री मेहगांव पं मनीष शास्त्री इटावा ने विधान करवाया। मंदिर के पदाधिकारी अध्यक्ष अनिल जैन महांमत्री कमल जैन कोषाध्यक्ष महावीर जैन , निर्मल जैन, राजीव जैन, महेंद्र जैन मनोज जैन ,रीतेश जैन ,सुमन जैन, विनय जैन मौजूद रहे। दिल्ली ,भिंड, गुडगांव सहित कई स्थानों से लोग दर्शन करने के लिए आए थे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Mahamastikabhishek was held for the first time in the Asai extravagant region