DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  बरसात से पहले कैसे सुधरेंगी जिले की सड़कों की सूरत

इटावा औरैयाबरसात से पहले कैसे सुधरेंगी जिले की सड़कों की सूरत

हिन्दुस्तान टीम,इटावा औरैयाPublished By: Newswrap
Sat, 12 Jun 2021 04:32 AM
बरसात से पहले कैसे सुधरेंगी जिले की सड़कों की सूरत

इटावा। संवाददाता

कोरोना संकट के कारण विकास कार्यों को लगा झटका इस बार बरसात में भी लोगों को मुसीबतों का सामना करने के लिए मजबूर करेगा। विकास कार्य की धीमी रफ्तार के चलते इस बार बरसात से पहले सड़कों की मरम्मत, चौड़ीकरण व डामरीकरण का काम अब तक शुरू नहीं हो सका। आलम यह है कि मार्च में स्वीकृत हुए पीडब्ल्यूडी के कामों को फिलहाल इन दिनों पूरा किया जा रहा है। स्थिति यह है कि शहर की ही कई सड़कों के साथ ही ग्रामीण क्षेत्र की सड़कों के निर्माण कार्य में भी देरी बरसात में लोगों की समस्या बढ़ाएगी। साथ जलभराव से भी लोगों को जूझना पड़ेगा।

पीडब्ल्यूडी के अलग-अलग खंडों से वित्तीय वर्ष 2021- 22 के लिए कार्य योजना तैयार करके शासन को भेज दी गई है। जिले से कुल 262 करोड़ रुपए की कार्य योजना तैयार करके शासन स्वीकृति के लिए भेजी गई है। निश्चित रूप से कोरोना संक्रमण के कारण विकास कार्य ठप्प हो गए थे। ऐसे में इस कार्य योजना की स्वीकृति मिलने के बाद ही टेंडर आदि की प्रक्रिया शुरू हो सकेगी। फिलहाल इस कार्य योजना में जिले की कुल 6 सड़कों के चौड़ीकरण के साथ ही 23 ग्रामीण क्षेत्र की नई सड़कों के निर्माण का प्रस्ताव भेजा गया है। इसके अलावा 85 विशेष मरम्मत सड़कें व 25 सामान्य मरम्मत सड़कें शामिल है। गड्डा मुक्ति समेत अन्य अभियान के लिए भी इस कार्य योजना में विशेष समायोजन किए गए हैं हालांकि इन कार्यों को स्वीकृति मिलने के बाद भी उनके शुरू होने में तकरीबन तीन महीने से अधिक का समय लगेगा, जबकि मौसम वैज्ञानिकों की मानें तो जून के अगले हफ्ते में मॉनसून जिले में दस्तक देने जा रहा है। साफ तौर से शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में सड़कों का निर्माण समय से न होने के कारण जलभराव से लोगों को दिक्कतों का सामना जरूर करना पड़ेगा।

शासन से स्वीकृति मिले तो शुरू हो निर्माण कार्य

इटावा। पिछले वित्तीय वर्ष के दौरान भी निर्माण संबंधी कार्यों को देरी से अनुमति मिलने व बजट अभाव के कारण कामकाज प्रभावित हुआ था। ऐसे में इस बार भी कोरोना संकट के चलते वित्तीय वर्ष की शुरुआत में ही विभिन्न विभागों को आर्थिक संकटों का सामना करना पड़ रहा है। पीडब्ल्यूडी के अधीक्षण अभियंता पीके जैन का कहना है कि भरथना- बकेवर- सिंडोस मार्ग के चौड़ीकरण के साथ ही विभिन्न सड़कों के चौड़ीकरण, नई सड़कों के निर्माण व विशेष मरम्मत व सामान्य मरम्मत के कामों के लिए कार्ययोजना तैयार करके शासन को भेज दी गई है। इसकी स्वीकृति मिलते ही टेंडर प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। जिससे जल्द से जल्द निर्माण पूरा हो सके। फिलहाल बरसात से पहले मार्च महीने में स्वीकृत हुए कामों को पूरा कर लिया जाएगा।

संबंधित खबरें