DA Image
Sunday, December 5, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेशबिना वेतन कैसे मनेगी दीवाली

बिना वेतन कैसे मनेगी दीवाली

हिन्दुस्तान टीम,इटावा औरैयाNewswrap
Mon, 01 Nov 2021 03:12 AM
बिना वेतन कैसे मनेगी दीवाली

इटावा। संवाददाता

दीवाली का त्यौहार 2 दिन दूर है लेकिन कुछ ऐसे कर्मचारी भी हैं जिन्हें वेतन नहीं मिल रहा है और बिना वेतन इनकी दीवाली फीकी ही रहेगी । वेतन ना मिलने से यह लोग खासे परेशान हैं लेकिन अभी तक वेतन नहीं मिल सका है।

सरकार द्वारा चलाई जा रही मिड डे मील योजना के अंतर्गत स्कूलों में मिड डे मील बनाने के लिए रसोईया रखे गए हैं । इन्हें काफी कम मानदेय मिलता है लेकिन जो मानदेय मिलता है वह भी पिछले 6 महीने से नहीं मिला है । मिड डे मील रसोइयों ने कई बार मांग की है कि उन्हें मानदेय दिया जाए लेकिन अभी तक इन्हें मानदेय नहीं मिल सका है । 6 महीने का मानदेय न मिलने के कारण आर्थिक रूप से परेशान हैं और वे इस आर्थिक तंगी में दीवाली कैसे मनाएंगे। रसोइयों के संगठनों ने भी मानदेय की मांग की है लेकिन उन्हें अभी तक आश्वासन के सिवा कुछ नहीं मिला है। यह रसोईया इंतजार कर रही हैं कि उनका बकाया मानदेय का भुगतान हो जाए तो बे भी हंसी-खुशी दीवाली मना सकें।

इसी तरह मनरेगा का कामकाज भी ठंडा चल रहा है। हालांकि मई के महीने तक मनरेगा में काफी काम मिला था लेकिन उसके बाद बरसात के चलते मनरेगा का काम धीमा हो गया और बरसात खत्म होने के बाद भी मनरेगा के काम में कभी नहीं पकड़ी है। इसके कारण मनरेगा मजदूरों की स्थिति यह है कि उन्हें ना तो काम मिल रहा है और ना मानदेय मिल रहा है। मनरेगा में जिले में 87632 श्रमिकों के जॉब कार्ड बनाए गए है लेकिन इन दिनों स्थिति यह है कि मुश्किल से आठ से दस हजार मजदूरों को ही काम मिल रहा है और जिन मजदूरों को काम नहीं मिल रहा है उन्हें मजदूरी मिलने का कोई सवाल ही नहीं उठता। इस संबंध में मनरेगा उपायुक्त शौकत अली का कहना है कि ग्राम पंचायतों द्वारा मनरेगा के काम का सृजन किया जा रहा है आने वाले दिनों में मनरेगा के काम में तेजी आएगी। इसके साथ ही मजदूरों को मानदेय भी मिलेगा।

दीवाली से पहले मानदेय भुगतान की तैयारी

इटावा। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी उमानाथ ने कहा है कि पिछले 6 महीनों से रसोइयों को मानदेय का भुगतान नहीं हुआ है। अब इस बात का प्रयास किया जा रहा है कि दीवाली से पहले उनके बकाया मानदेय का भुगतान कर दिया जाए। उन्होंने कहा कि पूरा प्रयास होगा कि त्यौहार से पहले ही इन रसोइयों का मानदेय उन्हें दे दिया जाए ताकि वे अच्छी तरह से त्योहार मना सकें। मानदेय भुगतान की प्रक्रिया चल रही है।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें