DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भुगतान न होने से किसान हैं आक्रोशित

भुगतान न होने से किसान हैं आक्रोशित

कुछ माह पहले हुई गेहूं खरीद में लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों व कर्मचारियों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई के शासन के निर्देश के बावजूद सम्बन्धित गेहूं खरीद केन्द्र के अधिकारियों ने किसानों का आर्थिक उत्पीड़न बंद नहीं किया है। गेहूं बिक्री करने के बाद करीब चार माह का समय बीतने के बाद भी केन्द्र प्रभारी ने किसानों की बकाया धनराशि नहीं दी। इस पर आक्रोशित किसानों ने उपजिलाधिकारी को लिखित शिकायती प्रार्थना पत्र सौंपकर गेहूं खरीद की धनराशि दिलाने की गुहार लगाई है।

पीड़ित किसान बेटियापुर निवासी रामेश्वर दयाल, बेंचेलाल व खोजीपुरा निवासी शीला देवी, लालाराम, बेंचेलाल व गांव चन्देठी निवासी संजू, उत्तेश व नगला पीपल निवासी नीरज यादव, संजीव कुमार, आढरपुरा निवासी राजीव कुमार, शेखूपुर निवासी विश्राम सिंह, नगला गुदे निवासी महेन्द्र प्रताप सिंह, प्रियंका यादव समेत करीब दो दर्जन से अधिक किसानों ने उपजिलाधिकारी नन्दप्रकाश मौर्य को सौंपे प्रार्थना पत्र में बताया कि उन्होंने अपना गेहूं खरीद केन्द्र सरकारी संघ तुरैया पर बेचा था। जिसकी खरीद कस्बा के बृजराज नगर स्थित सरकारी शीतगृह परिसर में हुई थी। जिसका भुगतान पीड़ितों को चार माह बीत जाने के बाद भी नहीं किया गया है। कई बार सरकारी संघ तुरैया के खरीद नियंत्रक से धनराशि भुगतान के सम्बन्ध में लिखित व मौखिक रूप से माँग की गई, लेकिन सरकार से धनराशि स्वीकृत न होने का हवाला देकर टाला मटोली की जाती रहीं। पीड़ति किसानों ने बताया कि उनकी आजीविका का साधन मात्र फसल की बिक्री ही है। भी इन अधिकारियों द्वारा समय से भुगतान न करने से परेशानी बढ़ रही है। पीड़ित किसानों ने कस्बा के बालूगंज स्थित इटावा जिला सहकारी बैंक लि. शाखा भरथना पर एकत्रित होकर सामूहिक रूप से उपजिलाधिकारी को लिखित शिकायती प्रार्थना पत्र सौंपकर धनराशि दिलाये जाने की मांग की है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Farmers are frustrated due to non-payment