DA Image
27 अक्तूबर, 2020|6:10|IST

अगली स्टोरी

प्रदेश भर में समूहों का गठन करा रही इटावा की महिलाएं

default image

लॉकडाउन के दौर से ही स्वयं सहायता समूह बड़े काम के हैं। इनके माध्यम से महिलाओं को रोजगार मिल रहा है और वे आत्मनिर्भर बन रही है। इस क्षेत्र में इटावा ने पूरे प्रदेश में अपनी अलग पहचान बनाई है। अब इटावा के पुराने समूहों की महिलाएं प्रदेश के दूसरे जिलों में जाकर समूह का गठन करा रही हैं और उन्हे कामकाज भी सिखा रही है। इसके लिए इन महिलाओं की टीमों का दूसरे जिलों में जाना भी शुरू हो गया है। खास बात यह है कि इस कार्य के लिए इन महिलाओं को पारश्रमिक मिलेगा तथा वे दूसरी महिलाओं को आत्मनिर्भर बनने में मदद करेंगी।

महिलाओं को स्वयं सहायता समूहों से जोड़कर आत्मनिर्भर बनाने की कवायद चल रही है। ऐसे में सभी स्थानों पर समूह गठित किए जाने हैं। इटावा में काफी पुराने समूह हैं और उनका भलीभांति संचालन भी किया जा रहा है। इन समूहों की महिलाओं की टीम बनाकर दूसरे जिलों में भेजा जा रहा है। यह टीमेंं दूसरे जिलों में 45 दिन रुकेंगी इस दौरान समूहों का गठन करेंगी और उन्हे कामकाज करना भी सिखाएंगी। पहले दौर में इटावा से 12 टीमें कासगंज तथा 4 टीमें झांसी जा चुकी हैं जो वहां समूहों का गठन किया गया हैं। इसके साथ ही जिले में भी स्वयं सहायता समूहों के गठन का कार्य चल रहा है। समूहों की महिलाओं को प्रशिक्षण भी दिया जाता है ताकि वे काम करके आत्मनिर्भर बन सकें।

उपायुक्त बृजमोहन अम्बेड ने बताया कि वैसे पांच सदस्यीय टीम होती है लेकिन कोरोना काल के चलते इस बार एक टीम में दो या तीन सदस्य महिलाएं ही रखीं गईं हैं। यह महिलाएं समूह के कामकाज में पारंगत हैं। इटावा जिले में भी लक्ष्य के अनुरुप स्वयं सहायता समूहों का गठन किया जा रहा है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Etawah women are forming groups across the state