DA Image
11 अगस्त, 2020|5:51|IST

अगली स्टोरी

दरोगा व वकीलों के बीच विवाद, दरोगा पर मुकदमा दर्ज

दरोगा व वकीलों के बीच विवाद, दरोगा पर मुकदमा दर्ज

कचहरी में तारीख पर आए एक दरोगा व उनके वकील के साथ कहासुनी के बाद मारपीट हो गई। घटना से हड़कंप मच गया। कुछ ही देर में कचहरी में भारी पुलिस फोर्स तैनात कर दी गई। दोनों पक्षों ने एक दूसरे पर मारपीट के आरोप लगाए हैं। एसएसपी ने मामले की जांच एएसपी को सौंपी है। वकील की ओर से दरोगा के खिलाफ मारपीट का मुकदमा दर्ज कराया गया है। दरोगा को गिरफ्तार कर लिया गया।

पुलिस लाइन के दरोगा (निलंबित)विजय प्रताप शुक्रवार को अपनी तारीख के सिलसिले में अपने वकील के पास गए थे। बातचीत के दौरान दोनों पक्षों में विवाद होने लगा। कुछ ही देर में मारपीट शुरू हो गई। वकीलों का आरोप है कि दरोगा ने उनके साथी वरिष्ठ अधिवक्ता से अभद्रता व मारपीट की, उन लोगों ने जैसे तैसे अपने साथी को बचाया है। जबकि दरोगा ने वकीलों पर बेवजह मारपीट करने का आरोप लगाया है। घटना के बाद दरोगा सीधे एसएसपी के पास पहुंचा और घटना से अवगत कराया। कुछ ही देर में बड़ी संख्या में वकील भी एसएसपी के पास पहुंचे और दरोगा पर मारपीट व अभद्रता का आरोप लगाया। इस बीच कचहरी में एक घंटे तक हड़कंप मचा रहा। सिविल लाइन प्रभारी निरीक्षक प्रताप सिंह ने बताया कि वरिष्ठ अधिवक्ता महेंद्र पांडेय की तहरीर पर सिविल लाइन थाने में दरोगा के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। उनको गिरफ्तार कर लिया गया है। बता दें कि दरोगा विजय प्रताप ने ट्रांसफर होने पर जिला मुख्यालय से बिठौली तक 60 किमी तक पैदल दौड़ लगा दी थी।

कोट-

दरोगा पर अपने वकील के साथ मारपीट का आरोप है। 2015 में भर्ती हुए दरोगा पर कई मर्तबा अनुशासनहीनता की कार्रवाई हो चुकी है। वर्तमान में भी वह निलंबित हैं। प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री के खिलाफ सोशल मीडिया पर भी वह अभद्र भाषा में टिप्पणी करते रहते हैं। पिछले दिनों ट्रांसफर होने पर जिला मुख्यालय से 60 किमी दूर बिठौली के लिए उन्होंने पैदल ही दौड़ लगा दी थी। लाकडाउन में भी हिंदू देवी देवताओं की मूर्ति क्षतिग्रस्त करने का आरोप है। उनके खिलाफ विभाग की ओर से बर्खास्तगी की कार्रवाई चल रही है। आकाश तोमर, एसएसपी, इटावा

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Dispute between the inspector and lawyers case filed against the inspector