DA Image
13 अप्रैल, 2021|10:32|IST

अगली स्टोरी

चुनाव से पहले अपराधी होंगे पाबंद

चुनाव से पहले अपराधी होंगे पाबंद

इटावा। हिन्दुस्तान संवाद

चुनाव से पहले ग्रामीण क्षेत्रों के असामाजिक तत्वों व अपराधियों को चिन्हित करके उन्हे पाबंद किया जाए। इसके साथ ही बूथों पर व्यवस्था दुरुस्त रहे। संवेदनशील और अतिसंवेदनशील बूथों को चिन्हित कर लिया जाए और इन बूथों पर सभी जरुरी व्यवस्थाएं भी पूरी रहें। यह निर्देश डीएम श्रुति सिंह ने दिए।

पंचायत चुनाव की तैयारियों की समीक्षा करते हुए उन्होंने रुटचार्ज निर्धारण की स्थिति, वाहन पार्किंग की स्थिति, मतगणना स्थल, स्ट्रांगरुम के चिन्हांकन की स्थिति, पोलिंग पार्टी रवानगी जैसी तैयारियों की जानकारी ली। बूथ तक जाने के रास्ते के बारे में भी जानकारी हासिल की। यह भी कहा कि बूथों से संबंधित सभी सूचनाएं एक सप्ताह में दी जाएं। उन्होनें कहा कि निर्वाचन को निष्पक्ष एवं शांतिपूर्ण तरीके से सम्पन्न कराने के लिए निरोधात्मक कार्रवाई, शस्त्र लाइसेंसों की जांच, असलहा जमा कराने का काम समय रहते तेजी से कराया जाए। उन्होने कहा कि सभी उप जिलाधिकारी क्षेत्राधिकारी अपने अपने क्षेत्रों का भ्रमण कर संवेदनशील, अति संवेदनशील स्थलों का चिन्हांकन कर तत्काल सूचना दें। उपलब्ध कराना सुनिष्चित करें। जिन विभागों के वाहन खराब है वह तत्काल ठीक कराकर अपने वाहनों को ठीक दशा में रखें। बैठक में एडीएम जय प्रकाश, सभी एसडीएम व अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

पूर्व चुनाव में अप्रिय घटना वाले बूथ हों चिन्हित

इटावा। डीएम श्रुति सिंह ने कहा कि ऐसे सभी मतदान केन्द्रों और स्थलों को चिन्हित किया जाए जहां पूर्व के दो निर्वाचनों में किसी भी प्रकार की अप्रिय घटना अथवा शांति व्यवस्था को प्रभावित करने से संबंधित घटना हुई हो। जिन स्थानों पर किसी भी कारण से पुर्नमतदान हुआ हो, ऐसे केन्द्रों का भी पता लगाया जाए।

90 प्रतिशत मतदान वाले केन्द्रों पर भी नजर

इटावा। डीएम श्रुति सिंह ने अधिकारियों से कहा कि क्षेत्र में रहने वाले लोगों के बारे में यह जानकारी की जाए कि क्षेत्र में कोई प्रभावशाली व्यक्ति निर्वाचन प्रक्रिया में व्यवधान उत्पन्न तो नही कर सकता है। ऐसे मतदान केन्द्र जिनमें पूर्व में 90 प्रतिशत से अधिक मतदान हुआ हो, उसे भी चिन्हित किया जाए।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Criminals will be banned before elections