DA Image
30 नवंबर, 2020|3:48|IST

अगली स्टोरी

पानी भरने से चकरनगर के आधा दर्जन व बढ़पुरा के तीन गांव के रास्ते हुए बंद

पानी भरने से चकरनगर के आधा दर्जन व बढ़पुरा के तीन गांव के रास्ते हुए बंद

चंबल में बाढ़ आने से कछार क्षेत्र सबसे ज्यादा प्रभावित हो रहा है। यहां पर आधा दर्जन से अधिक गांव के लोगों का रास्ते में पानी भरने के कारण गांव से संपर्क टूट गया है और लोग अपने घरों में कैद रहने को मजबूर है। लगभग दो हजार की आबादी वाले गांव कायंछी में तीन दिनों से पानी भरने के कारण रास्ता बंद है। यहां के लोग सबसे ज्यादा परेशान हो रहे है। वहीं साढ़े चार हजार से अधिक आबादी वाला गांव हरौली बहादुरपुर भी रविवार को बाढ़ के पानी से घिर चुका था। इसके अलावा भरेह मंदिर जाने वाला मार्ग भी पानी में डूबा हुआ है जिसके चलते लोग न तो मंदिर जा पा रहे है और न ही मंदिर के लोग गांव में पहुंच पा रहे है। चकरपुरा, भरेह, निवी, पालीधार, नीमा डांडा आदि गांव को जाने वाले रास्ते भी पानी भरने के कारण पूरी तरह से बंद हो चुके है। जलस्तर में तेजी से बढ़ोत्तरी हो रही है। ऐसे में और भी गांव के रास्ते बंद होने की संभावना है। वहीं भरेह से चकरनगर को जाने वाला रास्ता भी शाम तक बंद हो सकता है। यमुना में सिकरोड़ी पुल के पास सड़क पर पानी आने से भरेह क्षेत्र के एक दर्जन गांव के लोग जो बाबरपुर व अजीतमल बाजार करने के लिए जाते थे उन्हें भी काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। इसके अलावा बढ़पुरा के बसवारा, पछायगांव कर मढ़ैया व मढ़ैया बढ़पुरा के रास्तों तक पानी पहुंचने लगा है। इससे गांव के लोग दहशत में है।