DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  सैफई में रेवाड़ी-कानपुर पेट्रोल पाइप लाइन में चोरी का प्रयास
इटावा औरैया

सैफई में रेवाड़ी-कानपुर पेट्रोल पाइप लाइन में चोरी का प्रयास

हिन्दुस्तान टीम,इटावा औरैयाPublished By: Newswrap
Sun, 06 Jun 2021 11:12 PM
सैफई में रेवाड़ी-कानपुर पेट्रोल पाइप लाइन में चोरी का प्रयास

सैफई। संवाददाता

सैफई में थाना क्षेत्र से निकली हिन्दुस्तान पेट्रोलियम की पेट्रोल की पाइप लाइन में सेंध लगाने का प्रयास पुलिस ने विफल कर दिया। चोरों ने 8 फिट गहरा गड्ढा खोदकर उसमें क्लैम्प लगाने का प्रयास किया था। ऐन वक्त पर पुलिस को इसकी जानकारी मिल गई। इस पर छापा मारा गया तो बैल्डिंग मशीन व अन्य सामान बरामद कर लिया गया। पुलिस ने इस मामले में मुकदमा दर्ज करके सेंध लगाने वालों की गिरफ्तारी के प्रयास शुरू कर दिए हैं।

सैफई के प्रभारी निरीक्षक मु.फहीम पांच जून की रात को गश्त पर थे। वह डिग्री कालेज के पीछे से निकली एक्सप्रेस वे के बाईपास रोड पर रात 12 बजे थे। हूटर बजाते उनकी निकली गाड़ी तीन मर्तबा निकली। उधर हिन्दुस्तान पावर कारपोरेशन के कंट्रोल रूम को रेवाड़ी कानपुर पेट्रोल पाइप लाइन में इसी स्थान पर कुछ गतिविधि की रिपोर्ट मिली। इस पर कंट्रोल रूम से अपनी टीम को साइड चेक करने के निर्देश दिए गए। टीम सुपरवाइजर के नेतृत्व में रात 2 बजे चैनेज नं.305.039 किमी पर पहुंची वहां बड़ा गड्ढा देखकर उनके पैरों से जमीन खिसक गई। टीम ने गड्ढे के पास ही बेल्डिंग मशीन भी देखी। इसकी जानकारी पुलिस को दी गई। कुछ ही देर में प्रभारी निरीक्षक मु.हमीद मौके पर पहुंच गए और फोरेंसिक टीम को बुलाकर छानबीन की। हिंदुस्तान पैट्रोलियम लिमिटेड के प्रबंध परिचालन प्रशांत शर्मा ने थाना सैफई में चोरों के खिलाफ चोरी के प्रयास का मुकदमा दर्ज कराया। बता दें कि इस तरह की चोरी की घटनाओं से सबक लेकर वर्ष 2018 में पीड्स सिस्टम शुरू किया गया था जिसमें ओएफसी केवल वैस आधार सिस्टम द्वारा जानकारी मिल जाती है और अलार्म बजने लगता है। जब कोई व्यक्ति पेट्रोल पाइप के पास या पाइप के ऊपर गतिविधि करे तो कानपुर में अलार्म बज जाता है। शनिवार की रात को भी यही हुआ। माना जा रहा है कि पुलिस के हूटर की आवाज सुनकर चोर मौके से भाग निकले। पुलिस ने मौके पर एक हथौड़ी, लगभग 100 मीटर वायर, एक मिनी इलेक्ट्रिक वेल्डिंग मशीन, एक फावड़ा, तीन गमछा, दो लंबी लोहे की रॉड बरामद की। रॉड का प्रयोग पाइप का पता लगाने के लिए किया जाता था और वेल्डिंग मशीन का प्रयोग पाइप में क्लेम फिट करने के लिए किया जाता था। थाना पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज करके अभियुक्तों की तलाश शुरू कर दी है।

कैसे चोरी करते हैं डीजल, केरोसिन, पेट्रोल

सबसे पहले गहरा गड्ढा खोदकर पाइप तक पहुंचा जाता है उसके बाद पाइप के ऊपर एक मजबूत क्लैंप को वेल्डिंग के जरिए फिट करते हैंष उसके बाद उसमें दूसरा हिस्सा फिट करके बोल्ट से कसा जाता है और उसके बाद एक लंबा पाइप निकालकर उसमें नोजल फिट किया जाता है और उसी नोजल के सहारे मुख्य पाइप में छेद किया जाता है जिससे पेट्रोल चोरी की जाती है। देशभर में ऐसी तमाम घटनाएं सामने आ चुकी हैं और कई मुकदमे भी दर्ज किए गए हैं।

हरियाणा के रेवाड़ी से कानपुर तक बिछाई गई है पाइपलाइन

पेट्रोल डीजल मिट्टी का तेल सप्लाई करने वाली पाइप लाइन हिंदुस्तान पेट्रोलियम कारपोरेशन लिमिटेड की संपत्ति है और यह हरियाणा के रेवाड़ी से कानपुर तक बिछाई गई है। इस पाइपलाइन की कुल लंबाई 443 किलोमीटर है। और 8 फीट गहरी है इस पाइपलाइन में डीजल, पेट्रोल, मिट्टी का तेल, मांग के अनुसार सप्लाई किया जाता है। सप्लाई हो रहे पेट्रोल डीजल की स्पीड लगभग 200 किलोमीटर प्रति घंटा होती है और 1 घंटे में 7 से 10 लाख लीटर डीजल, पेट्रोल, केरोसिन सप्लाई किया जाता है।

5 साल में पाइप लाइन से छेड़छाड़ चोरी की 25 घटनाएं

शातिर चोरों ने पाइप लाइन में छेड़छाड़, गड्ढा खोदना, क्लैंप लगाना पाइप में छेदकर डीजल निकालना, आदि से संबंधित इटावा औरैया मैनपुरी कानपुर देहात में अब तक लगभग 25 मुकदमे दर्ज किए जा चुके हैं। जिसमें सबसे पहला मुकदमा 16 फरवरी वर्ष 2016 को थाना चौबिया में दर्ज किया गया था उसके बाद 7 मई को 25 वां मुकदमा थाना सैफई में दर्ज किया गया है। इससे इससे पूर्व थाना सैफई में 17 अप्रैल 2018 को एक मुकदमा दर्ज किया गया था। जब जब नगला बिहारी के पास पेट्रोल चोरी करने का प्रयास किया गया। चार जिले में अब तक 25 मुकदमे दर्ज किए गए हंैं। जिनमें थाना भरथना में सबसे ज्यादा 7 मुकदमे, चौबिया में 4, थाना सहायल जिला औरैया में 3, थाना करहल जिला मैनपुरी में 3, थाना दिबियापुर जिला औरैया में 2, थाना अछल्दा जिला औरैया में 2, थाना बिधूना जिला औरैया में 1, थाना मंगलपुर जिला कानपुर देहात में 1, थाना सैफई जिला इटावा में 2 मुकदमे पंजीकृत कराए गए हैं। चार जिलों में 25 मुकदमे दर्ज कराए गए हैं लेकिन पुलिस को सिर्फ दो चार मुकदमे में ही सफलता मिली है।

संबंधित खबरें