DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  33 साल बाद चकरोड पर ग्रामीणों की होगी चहलकदमी
इटावा औरैया

33 साल बाद चकरोड पर ग्रामीणों की होगी चहलकदमी

हिन्दुस्तान टीम,इटावा औरैयाPublished By: Newswrap
Thu, 17 Jun 2021 06:10 AM
33 साल बाद चकरोड पर ग्रामीणों की होगी चहलकदमी

इटावा। संवाददाता

सरकारी जमीन को कब्जा मुक्त करने को लेकर चल रही कवायद के बीच बुधवार को बसरेहर ब्लॉक क्षेत्र के ग्राम प्रतापपुरा,वजीरपुर में चकबंदी के बाद से कब्जे की शिकार चकरोड को राजस्व विभाग ने मुक्त कराया। कब्जा मुक्त कराई गई चकरोड की जमीन पर बुधवार को दिन भर चले काम के बाद देर शाम सड़क का निर्माण कार्य पूरा करा लिया गया। गांव में 33 साल बाद इस चकरोड के बनने से ग्रामीणों को बड़ी राहत मिली है। अब इस चक रोड पर ग्रामीणों की चहलकदमी होगी।

बुधवार को सदर तहसील के नायब तहसीलदार अवनीश सिंह सहित राजस्व निरीक्षक नरेंद्र व अन्य राजस्व कर्मियों ने पुलिस बल के साथ गांव पहुंचकर चकरोड पर किए गए कब्जे की शिकायत का निस्तारण किया। इस दौरान चकरोड बनाने का विरोध कर रहे लोगों को सरकारी काम में बाधा न डालने के निर्देश दिए गए। ऐसे में बड़ी संख्या में कर्मचारी लगाकर खेतों के बीच से गुजरी चकरोड को कब्जा मुक्त कराया गया और निर्माण कार्य शुरू किया गया। शाम 5 बजे गांव के इस चकरोड का निर्माण कार्य पूरा कर लिया गया। नायब तहसीलदार अवनीश सिंह ने बताया कि लंबे समय से इस चकरोड पर कब्जे की शिकायत थी। जिसे निस्तारित कर लिया गया बता दें कि चकबंदी के बाद से ही कुछ लोग चकरोड निर्माण को लेकर विरोध कर रहे थे। ऐसे में 33 साल बाद ग्रामीण सड़क से होकर आसानी से गांव की मुख्य सड़क पर आ सकेंगे। वहीं एसडीएम सदर सिद्धार्थ ने बताया कि सदर तहसील के ग्रामीण क्षेत्रों में जल्द ही चकरोड निर्माण को लेकर एक विशेष अभियान की शुरुआत की जाएगी। जिससे लंबे समय से विवादित चकरोड की जमीनों को कब्जा मुक्त कराने के साथ निर्माण पूरा कराया जाएगा।

संबंधित खबरें