Poisonous vegetables being grown in Etah using dirty water - मुफ्त के फेर में गंदे पानी से उगाई जा रहीं जहरीली सब्जियां DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुफ्त के फेर में गंदे पानी से उगाई जा रहीं जहरीली सब्जियां

मुफ्त के फेर में गंदे पानी से उगाई जा रहीं जहरीली सब्जियां

1 / 4शहर के नाले-नालियों में बह रहे गंदे पानी से निकटवर्ती आधा दर्जन गांवों में जहरीली सब्जियां उगाई जा रही है। महंगी सिंचाई दर होने की वजह से किसान मुफ्त में मिल रहे गंदे पानी से सब्जियां उगाकर जनमानस के...

मुफ्त के फेर में गंदे पानी से उगाई जा रहीं जहरीली सब्जियां

2 / 4शहर के नाले-नालियों में बह रहे गंदे पानी से निकटवर्ती आधा दर्जन गांवों में जहरीली सब्जियां उगाई जा रही है। महंगी सिंचाई दर होने की वजह से किसान मुफ्त में मिल रहे गंदे पानी से सब्जियां उगाकर जनमानस के...

मुफ्त के फेर में गंदे पानी से उगाई जा रहीं जहरीली सब्जियां

3 / 4शहर के नाले-नालियों में बह रहे गंदे पानी से निकटवर्ती आधा दर्जन गांवों में जहरीली सब्जियां उगाई जा रही है। महंगी सिंचाई दर होने की वजह से किसान मुफ्त में मिल रहे गंदे पानी से सब्जियां उगाकर जनमानस के...

मुफ्त के फेर में गंदे पानी से उगाई जा रहीं जहरीली सब्जियां

4 / 4शहर के नाले-नालियों में बह रहे गंदे पानी से निकटवर्ती आधा दर्जन गांवों में जहरीली सब्जियां उगाई जा रही है। महंगी सिंचाई दर होने की वजह से किसान मुफ्त में मिल रहे गंदे पानी से सब्जियां उगाकर जनमानस के...

PreviousNext

शहर के नाले-नालियों में बह रहे गंदे पानी से निकटवर्ती आधा दर्जन गांवों में जहरीली सब्जियां उगाई जा रही हैं। महंगी सिंचाई दर होने की वजह से किसान मुफ्त में मिल रहे गंदे पानी से सब्जियां उगाकर जनमानस के स्वास्थ्य से खिलवाड़ कर रहे हैं। ऐसी सब्जियों से लोग लीवर, किडनी संक्रमण, त्वचा रोगों के शिकार हो रहे हैं। मैनपुरी से लिए गए सब्जी के सैंपल लखनऊ प्रयोगशाल में फेल हो गए हैं। इसके बाद एटा उद्यान विभाग चौकन्ना हो गया है। और गंदे पानी से सब्जी उगाने वालों पर शिकंजा कसने की तैयारी कर ली है।

शहर के निकटवर्ती गांव भगीपुर, उद्वैतपुर, नगला प्रेमी, शिवसिंहपुर, शीतलपुर, मानपुर के खेतों में नाले-नालियों के गंदे पानी से सैकड़ों बीघा में जहरीली सब्जियां उगाई जा रही हैं। भगीपुर के खेतों में शहर के मोहल्ला श्यामनगर से होकर जाने वाली नाली के पानी से खेतों की सिंचाई की जा रही है। इसी प्रकार मोहल्ला सुनहरीनगर, अवंतीबाई नगर के गंदे पानी से नगला प्रेमी, उद्वैतपुर, मोहल्ला किदवई नगर, नर्सरी से होकर गुजर रहे नाले से शीतलपुर, मानपुर, पीपल अड्डा की नालियों के गंदे पानी से शिव सिंहपुर के खेतों में पत्ता गोभी, बंदगोभी, टमाटर, बैगन, भिंडी, लौकी, तोरई, कद्दू सब्जियों के साथ धान, बाजारा, मक्का की फसलों की सिंचाई का कार्य किसान कर रहे हैं। गंदेपानी से उगाई जाने वाली सब्जियां का सेवन करने से लोग किडनी, लीवर के संक्रमण की बीमारियों के शिकार हो रहे है। उसके अलावा त्वचारोग के भी शिकार हो रहे है। गंदेपानी को खेतों तक ले जाने के लिए नलकूप की गूल को उपयोग में ला रहे हैं। शहर की ओर से निकलने वाली नालियों के पानी को खेतों तक ले जाया जा रहा है।

शहर में सब्जियों के भरे गए सैंपल, लैब में पास

एटा। जिला अभिहित अधिकारी डा. श्वेता सैनी ने बताया कि खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन विभाग की टीम ने रक्षाबंधन पर शहर की सब्जी मंडी से हरी सब्जी बैगन, गोभी, तोरई, लौकी, करेला, परमल, भिड़ी आदि के दस सैंपल लिए थे। सैंपल को जांच के लिए लखनऊ भेजा गया। प्रयोगशाला में सभी ठीक पाए गए।

जनपद में सब्जियों में इंजेक्शन का हो रहा उपयोग

एटा। जिला उद्यान अधिकारी नलिन सुंदरम् भट्ट का कहना है कि नाले-नालियों के गंदे पानी उगाए जाने सब्जियों पर उसका असर होगा। उन्होंने बताया कि किसान सब्जियों को जल्दी बड़ी करने के लिए इजेंक्शन लगा रहे है। यह स्थिति काफी खतरनाक हो सकती है। किसानों को फसलों में इंजेक्शन, गंदे पानी से सिंचाई करने से बचना चाहिए। इससे उगने वाली सब्जियां जनमानस के स्वास्थ्य के लिए हानिकरक हैं।

गंदेपानी से उगने वाली सब्जियां स्वास्थ्य को हानिकारक

एटा। गंदे पानी से उगाई जाने वाली सब्जियों का प्रयोग करने से लोगों को पानीजनित बीमारियां हो सकती हैं। उन्होंने बताया कि गंदेपानी से पैदा सब्जियों को बिना धोये खाने से पीलिया, पेचिस, दस्त, पेट में कीड़े सहित अन्य बीमारियां हो सकती हैं।

-एस चंद्रा, फिजिशियन, जिला चिकित्सालय, एटा।

गंदेपानी और कीटनाशक के प्रयोग से उत्पन्न वाली सब्जियां लोगों को बीमार कर देगी। इस तरह की सब्जियों को बिना धोये खाने से पेट संबंधी रोग, त्वचा संबंधी रोग के लोग शिकार होगे। उससे लिवर में भी संक्रमण हो सकता है।

-डा. मनोज गुप्ता, एटा।

गंदेपानी से उगाई जाने वाली सब्जियों के सेवन से पेट संबंधी रोग के शिकार लोग हो सकते हैं। उसमें मुख्यत: पेट में कीड़े होना, डायरिया होना आदि शामिल हैं। पेट के कीड़े दिमाग में भी जा सकते हैं। गंदेपानी से उगाई जा रही सब्जियों की ऊपरी सतह पर असर रहता है। इसलिए सब्जियों को अच्छी तरह धोकर ही प्रयोग में लाया जाए।

-डा. अजय अग्रवाल, सीएमओ, एटा।

सिंचाई महंगी होने से गंदेपानी का किसान कर रहे प्रयोग

एटा। सबमर्सिबल पंप, बिजली से खेतों की सिंचाई करना अत्यंत महंगा है। पंप से 150 रुपये बीघा की दर से सिंचाई ली जा रही है। उसकी वजह से शहर के निकट रहने वाले किसान सब्जी उगाने के लिए गंदेपानी का प्रयोग कर रहे हैं। उससे सब्जियां जहरीली होने की संभावना रहती है। यदि खेतों में दो-तीन बार गंदेपानी से सिंचाई करने पर ही पैरों में खुजली आदि रोग होने लगते हैं।--गोरेलाल, किसान, भगीपुर (एटा)

गंदेपानी से सब्जियां उगाने में मारहरा अव्वल

मारहरा। बीमारियां पनपने में गंदे पानी से उगने वाली सब्जियां शामिल है। अच्छा मुनाफा कमाने के लालच में लोग रसायनिक, तालाबों का गंदा पानी इस्तेमाल कर रहे हैं। वह आमजन के स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव डाल रहे हैं। इस ओर से जिला खाद्य एवं औषधि प्रशासन विभाग आंखें बंद किए हुए है। राज्य सरकार ने उत्तर प्रदेश के 18 जिलों में पड़ोसी जिला मैनपुरी में जहरीली सब्जीयां उगाने में शामिल पाया है। एटा में ब्लाक मारहरा में सबसे अधिक गंदेपानी से सब्जियां उगाए जाने में अव्वल है। मारहरा मिरहची एटा में गंदे पानी से सब्जी उगाने में प्रथम स्थान पर है। सब्जी विक्रेताओं का कहना है कि तालाब के गंदे पानी से सब्जियों में अधिक पैदावार होती है। जलस्तर गिर जाने के कारण हर व्यक्ति पानी की व्यवस्था नहीं कर पाता है। इसलिए पंपसेट से तालब के गंदे पानी को ले जाकर दूर तक सब्जी उगाने का कार्य करते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Poisonous vegetables being grown in Etah using dirty water