अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दो बंदियों के भागने में चार पुलिस वाले सस्पेंड

बुलंदशहर पेशी पर गए दो शातिर बंदी मंगलवार की रात एटा जिले के अलीगंज कोतवाली क्षेत्र के गांव सिसौता के सामने पुलिस वाहन से कूदकर फरार हो गए थे। दोनों जिलों की पुलिस ने सघन चेकिंग अभियान चलाया लेकिन शातिरों को पकड़ नहीं पाई। मामले में एसपी ने हेड कांस्टेबल, चालक व दोनों सिपाहियों को निलंबित कर दिया है। अलीगंज थाने में हेड कांटेबल ने दोनों बंदियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया। वादी हेड कांस्टेबल समेत सभी को हिरासत में ले लिया गया।

पुलिस लाइन में तैनात हेड कांस्टेबल कृष्ण कुमार, चालक कुंअरलाल, सिपाही सुधीर कुमार व राजीव कुमार जिला जेल में निरुद्ध चल रहे शातिर बंदी अजय पुत्र शेर सिंह निवासी छतारी बुलंदशहर, रुपेंद्र उर्फ पैना पुत्र मंगल सेन निवासी भूपनगर नई बस्ती थाना पहासू बुलंदशहर को मंगलवार की सुबह पेशी पर उनके गृह जनपद ले गए थे। रात में सरकारी वाहन से सभी लोग वापस लौट रहे थे। दोनों बंदी अलीगंज थाना क्षेत्र के गांव सिसौता के सामने पुलिस जीप से भाग गए।

सूचना मिलते ही अलीगंज व जिले की पुलिस ने नाकाबंदी कर र्चेंकग की। एसपी संतोष कुमार मश्रिा ने ड्यूटी में लापरवाही बरतने वाले हेड कांस्टेबल कृष्ण कुमार, चालक कुंअरलाल, सिपाही सुधीर कुमार, राजीव कुमार को निलंबित कर दिया। हेड कांस्टेबल की तहरीर पर अलीगंज थाने में पुलिस अभिरक्षा से भागने वाले बंदी अजय व रुपेंद्र के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया। थाना पुलिस ने हेड कांसटेबल समेत चार लोगों को हिरासत में ले लिया। जिन्हें एटा के न्यायालय में बुधवार को पेश किया गया।

दो वर्ष पहले दरोगा की आंख में मिर्ची झोंककर हुए थे फरार

दो वर्ष पहले शातिर बंदी अजय व रूपेंद्र बुलंदशहर के अनूप शहर के एसीजेएम न्यायालय में पेशी पर आए थे, यहां दरोगा की आंखों में मिर्ची झोंककर दोनों फरार हो गए थे।

शातिर बंदी अजय चौहान व रुपेंद्र उर्फ पैना 23 सितंबर 2016 को अनूप शहर के एसीजेएम न्यायालय में पेशी पर गए थे। न्यायालय परिसर में दोनों शातिर बंदी डयूटी पर तैनात दरोगा की आंखों में मिर्ची झोंककर फरार हो गए थे। बुलंदशहर पुलिस ने नाकाबंदी कर तलाश की लेकिन इन्हें पकड़ने में कामयाब नहीं हुई। दो अक्तूबर को वर्तमान कंपिल एसओ तत्कालीन स्वाट टीम प्रभारी महेंद्रनाथ त्रिपाठी ने सटीक सूचना पर घेराबंदी की जहां राजेपुर थाना क्षेत्र के हरिहरपुर गांव में मुठभेड़ में अजय चौहान व रुपेंद्र उर्फ पैना को टीम ने दबोच लिया था। उनके पास से तमंचे भी बरामद हुए थे। राजेपुर थाने में दोनों के खिलाफ पुलिस मुठभेड़ व अवैध शस्त्र का मुकदमा दर्ज किया गया था। 3 अक्तूबर को पकड़े गए दोनों शातिरों को जिला जेल में भेज दिया गया था।

दोनों बंदियों के खिलाफ लूट, गैंगस्टर के दर्जन भर मुकदमे

शातिर बंदी अजय चौहान के खिलाफ बुलंदशहर के थाना खुर्जा देहात, अनूप शहर, अहमदगढ़ में लूट, जानलेवा हमला, गैंगस्टर व शस्त्र अधिनियम के आठ मुकदमे दर्ज हैं । वहीं, रुपेंद्र उर्फ पैना के खिलाफ बुलंदशहर की शहर कोतवाली, थाना डिवाई, पहासू व अलीगढ़ के थाना हरदुआगंज, अतरौली, बन्नादेवी व गांधी पार्क में लूट, चोरी, धोखाधड़ी, दुष्कर्म के 11 मुकदमे दर्ज हैं। दो मुकदमे इन दोनों बंदियों के खिलाफ राजेपुर थाने में दर्ज हैं जिसमें एक मुठभेड़ व दूसरा शस्त्र अधिनियम का है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Four policemen suspended for the escape of two prisoners