Environment pollution growing by burning crop residues - फसल अवशेष जलाने से बढ़ रहा पर्यावरण प्रदूषण DA Image
14 नबम्बर, 2019|9:56|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फसल अवशेष जलाने से बढ़ रहा पर्यावरण प्रदूषण

फसल अवशेष जलाने से बढ़ रहा पर्यावरण प्रदूषण

प्रदूषण का स्तर लगातार जानलेवा होता जा रहा है। धूल और धुंध वातावरण में छाई रहती है। पर्यावरण संरक्षण के लिए शासन-प्रशासन के प्रयास जारी हैं। लेकिन उसके बाद भी जनपद में किसान, सफाई कर्मचारी फसल अवशेष, कूड़ा-कचरा जलाकर पर्यावरण प्रदूषण बढ़ा रहे हैं।

पर्यावरण संरक्षण के लिए डीएम आईपी पांडेय ने जनपद में फसल अवशेष, कचरा न जलाने की हिदायत दी है। उसके बाद भी शहर, नगर और ग्रामीण क्षेत्रों में कूड़ा-कचरा, फसल अवशेष खुलेआम जलाकर पर्यावरणीय प्रदूषण में बढ़ोतरी की जा रही है। वर्तमान में खेतों में खड़ी धान की फसल का कटान जोरों पर चल रहा है। मशीन से धान की कटाई होने के बाद बचने वाले अवशेष को जलाकर किसान खेत खाली करने में जुटे हैं। जनपद के एटा-आगरा रोड स्थित ग्राम हिम्मतपुर के निकट दो-तीन दिन से किसान फसल अवशेष जला रहे हैं। उससे मार्ग से होकर गुजरने वाले राहगीर फसल अवशेष जलते समय उठने वाले धुंए के कारण परेशान हो उठते हैं। ऐसा ही हाल एटा-जलेसर मार्ग, एटा-निधौलीकलां मार्ग, एटा-एका मार्ग स्थित खेतों में आसानी से देखा जा सकता है। इन क्षेत्रों में धान की फसल अत्यधिक उत्पन्न की जाती है। फसल कटाई के बाद किसान खेतों को खाली करने के लिए तेजी से अवशेषों को जला रहे हैं। इसके अलावा शहरी क्षेत्र में घंटाघर, हाथीगेट, मेहता पार्क, ठंडी सड़क, पीपल अड्डा, पटियाली गेट सहित गली-मोहल्लों में सफाई कार्य करने वाले कर्मचारी सुबह पांच से सात बजे के मध्य एकत्र होने वाले कूड़े को जलाने का कार्य कर रहे हैं। उसके अलावा सुबह-शाम दुकानों की सफाई करने के बाद निकलने वाले कचरे को जलाने में दुकानदार भी कोई कोताही नहीं बरत रहे हैं। सुबह हल्की सर्दी होने पर कूड़े के ढेर पर जल रही आग पर लोगों को बैठा देखा जा सकता है। सफाई कर्मचारियों के इस कृत्य से पर्यावरण संरक्षण को चलाई जा रही मुहिम को धक्का लग रहा है।

फसल अवशेष जलाने पर जुर्माना-सजा का प्रावधान

एटा। बढ़ती ग्लोबल वॉर्मिंग और प्रदूषण के मद्देनजर फसल अवशेष, कचरा न जलाने को शासन-प्रशासन लोगों को जागरूक कर रहा है। ऐसा करने वालों के विरुद्ध शासन-प्रशासन ने एक से लेकर 15 हजार रुपये तक का जुर्माना और सजा कराने का प्रावधान भी किया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Environment pollution growing by burning crop residues