ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश देवरियासरयू में डूबने से किशोर की मौत, चार को नाविकों ने बचाया

सरयू में डूबने से किशोर की मौत, चार को नाविकों ने बचाया

बरहज (देवरिया), हिन्दुस्तान संवाद। बरहज में सरयू नदी में स्नान करते समय...

सरयू में डूबने से किशोर की मौत, चार को नाविकों ने बचाया
हिन्दुस्तान टीम,देवरियाSun, 22 Oct 2023 10:37 PM
ऐप पर पढ़ें

बरहज (देवरिया), हिन्दुस्तान संवाद।
बरहज में सरयू नदी में स्नान करते समय रविवार को दोपहर में चार छात्र व एक युवक डूबने लगे। उनकी चीख पुकार सुनकर पहुंचे नाविकों ने तीन छात्रों व एक युवक को बचा लिया लेकिन एक किशोर की डूबने से मौत हो गई। करीब दो घंटे की प्रयास के बाद किशोर का शव नदी में ढ़ंढ़ा जा सका।

भलुअनी थाना क्षेत्र के बरौली निवासी बलवंत यादव (15) पुत्र मरकन्डे यादव, राज राजभर (15) पुत्र राम जीत राजभर, अभय विश्वकर्मा (15) पुत्र नंदू, शिवम राय (17) पुत्र दिनेश राय बरियारपुर थाना क्षेत्र के ग्राम सरया निवासी कन्हैया (26) पुत्र अशोक राय के साथ छुट्टी होने व अष्टमी व्रत होने के चलते बरहज में सरयू स्नान के लिए आये थे। थाना घाट के सामने स्नान करते समय सभी गहरे पानी में डूबने लगे। उनकी चीख पुकार सुनकर वहां मौजूद नाविक नदी में कूद पड़े।

उन्होंने बलवंत, राज, शिवम व कन्हैया को तो बचा लिया लेकिन अभय विश्वकर्मा गहरे पानी में डूब गया। सूचना पर पहुंची पुलिस गोताखोर व नाविकों की मदद से उसकी नदी में तलाश कराने लगी। करीब दो घन्टे बाद अभय का शव सौ मीटर दूर मिला। पुलिस उसे अस्पताल ले गई जहां चिकित्सक ने मृत घोषित कर दिया।

परिजनों की चीख से गमगीन हुआ माहौल

अभय के मौत की खबर सुनकर नदी तट पर पहुंचे परिजनों के करुण क्रंदन से माहौल गमगीन ही गया। माँ प्रेम कुमारी दहाड़े मार कर रो रही थी। रोते रोते वह अचेत हो जाती। महिलाएं पानी का छींटा मारकर होश में लाती। होश में आते ही वह फिर दहाड़े मारने लगती। पिता का भी रो रो कर बुरा हाल था। बड़े भाई अभिषेक, बहन अंजू व अंशु शव से लिपट कर नियती के इंसाफ को कोस रही थीं। अभय कक्षा आठ का छात्र था।

देवदूत बनकर आए नाविक, बचाई चार जाने

देवदूत बनकर आए नाविकों ने अपनी जान की परवाह किये बगैर नदी में कूद गए। लहरों को चीरते हुए चार लोगों को तो बचा लिया लेकिन पानी मे डूब जाने से अभय को न बचा सके। इसका उन्हें मलाल है। नहाते समय पानी मे डूब थे छात्र और युवक बचाने की गुहार लगाने लगे। उनकी आवाज सुनकर नाविक सुरेंद्र व गंगासागर नदी में कूद गए।

जान पर खेलकर बलवंत यादव, राज राजभर,. शिवम राय व कन्हैया को बाहर निकाल लिया किन्तु नियती के आगे किसी का जोर नहीं चला। दो घंटे तक अथक प्रयास के बाद जब तक अभय को बाहर निकाला तब तक सब ख़त्म हो चुका था। नाविकों को मलाल है कि उसकी आंखों के सामने एक किशोर डूब गया। हालांकि उसकी वजह से चार लोगों को जीवनदान मिल गया। जिसकी खुशी छात्र की मौत के आगे कुछ नहीं है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।