DA Image
29 जनवरी, 2020|1:16|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

25 हजार के इनामी को एसटीएफ ने दबोचा

25 हजार के इनामी को एसटीएफ ने दबोचा

अमित मिश्र हत्याकांड में फरार 25 हजार के इनामी प्रापर्टी डीलर अखिलेश पाण्डेय को गोरखपुर एसटीएफ ने दबोच लिया। सुपारी देकर अमित की हत्या कराई थी। इस मामले में करीब 22 माह से अखिलेश फरार चल रहा था।

सदर कोतवाली क्षेत्र के अहिल्यवार के रहने वाले भाजपा नेता नरेंद्र मिश्र पप्पू के भतीजे अमित मिश्रा की 16 मार्च 2018 को हरैया पुलिया के समीप दिन दहाड़े गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। अमित के पिता प्रेमनारायण मिश्र ने 17 मार्च घटना की तहरीर कोतवाली पुलिस को दी। उनकी तहरीर पर पुलिस ने अजय मिश्र व छवि मिश्र पुत्र रामनिवास निवासी सोंदा और अखिलेश पाण्डेय पुत्र लल्लन पाण्डेय निवासी भुड़वार थाना बनकटा हाल मुकाम सिविल लाइन रोड देवरिया समेत पांच लोगों पर हत्या का केस दर्ज किया। पुलिस ने हत्याकांड के अभियुक्त अजय मिश्र को गिरफ्तार किया। जांच में पुलिस ने मामले में अजय के भाई छवि को साक्ष्य के अभाव में छोड़ दिया। जबकि अजय मिश्र, बृजेश यादव और अमित रंजन मिश्र उर्फ मोनू मिश्र निवासी सोंदा थाना सदर कोतवाली तथा पंकज तिवारी निवासी मझवलिया थाना खुखुन्दू को गिरफ्तार कर 1 अप्रैल 2010 को ही जेल भेज दिया। चार अभियुक्त फरार चल रहे थे।

मामले में आरोपी ग्राम प्रधान रत्नेश मिश्र उर्फ बनारसी ने न्यायालय में आत्म समर्पण कर दिया था। शूटर अम्बरेश के अलावा अखिलेश पाण्डेय फरार चल रहे थे। तत्कालीन एसपी ने दोनों पर 25-25 हजार रुपया का ईनाम घोषित कर दिया। एसटीएफ गोरखपुर की टीम ने कुछ माह पूर्व अम्बरेश यादव को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था। सूत्रों के अनुसार एसटीएफ को अखिलेश का लोकेशन उन्नाव में मिला जहां से उसे दबोच लिया गया। कोतवाल टीजे सिंह ने बताया कि एसटीएफ ने अखिलेश पाण्डेय को गिरफ्तार कर सौंपा है।