ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश देवरियाडॉक्टर तक पहुंचने को मरीज करते रहे धक्का-मुक्की

डॉक्टर तक पहुंचने को मरीज करते रहे धक्का-मुक्की

देवरिया, निज संवाददाता। महर्षि देवरहा बाबा स्वशासी चिकित्सा महाविद्यालय में सोमवार को रोगियों...

डॉक्टर तक पहुंचने को मरीज करते रहे धक्का-मुक्की
हिन्दुस्तान टीम,देवरियाMon, 19 Feb 2024 07:30 PM
ऐप पर पढ़ें

देवरिया, निज संवाददाता।
महर्षि देवरहा बाबा स्वशासी चिकित्सा महाविद्यालय में सोमवार को रोगियों की भारी भीड़ रही। पंजीकरण से लेकर ओपीडी व औषधि वितरण काउंटर तक लंबी कतार लगी रही। इससे रोगियों को इलाज कराने में काफी समय लगा। 25 सौ लोगों ने चिकित्सा के लिए पंजीकरण कराया।

मेडिकल कालेज में चिकित्सा व्यवस्था रोगियों की भारी भीड़ के आगे कई बार नतमस्तक होती नजर आती है। सोमवार को भी यही हाल रहा। रोगी पंजीकरण काउंटर पर सुबह आठ बजे रोगियों की लंबी कतार लग गई। इसके चलते पर्ची बनवाने में आधे घंटे से अधिक समय लगा। दोपहर तक भीड़ छंट गई। इसके बाद आए रोगियों को तुरंत पर्ची मिल गई। नए पुराने मिलाकर 26सौ से अधिक रोगियों ने ओपीडी में चिकित्सकों से परामर्श लिया। सर्वाधिक भीड़ मेडिसीन विभाग में रही यहां।

650 से अधिक नए पुराने रोगी चिकित्सा कराने पहुंचे। इसके चलते मेडीसिन विभाग के तीनों कमरों के सामने कतार लगी रही। हड्डी रोग विभाग में भी बड़ी संख्या में रोगी पहुंचे। यहां चार सौ से अधिक रोगियों ने अपना इलाज कराया। यहां चिकित्सक कक्ष से लेकर अंदर एक्सरे कक्ष से आगे तक कतार लगी रही। डॉक्टर को दिखाने से लेकर प्लास्टर कक्ष तक कतार लगी रही। स्ट्रेचर पर लेटे रोगी प्लास्टर कराने के लिए अपनी बारी की प्रतीक्षा करते रहे। नेत्र रोग विभाग का हाल भी कुछ इसी तरह रहा।

यहां साढ़े तीन सौ रोगियों ने चिकित्सक को दिखाकर परामर्श लिया। इसमें से कई लोग मोतियाबिंद के चलते आपरेशन की डेट लेने पहुंचे थे। स्त्री व प्रसूति रोग विभाग में ढाई सौ व बाल रोग विभाग में दो सौ के करीब रोगी चिकित्सा कराने पहुंचे। इसी तरह चर्म रोग, नाक कान व गला रोग, चेस्ट रोग, मनोविज्ञान समेत अन्य विभागों में भी औसतन सौ-सौ रोगियों ने इलाज कराया।

मेडिसिन और ऑर्थो विभाग में रही सबसे अधिक भीड़

मेडिकल कालेज में मेडिसीन व आर्थो विभाग में सबसे अधिक भीड़ रही। दोनो विभागों में मिलाकर एक हजार से अधिक रोगी इलाज कराने पहुंचे। यह ओपीडी के कुल रोगियों का करीब 40 प्रतिशत रहा। रोगियों के लोड से ओपीडी में बैठे चिकित्सकों को फुर्सत नहीं थी।

एक्सरे और सीटी स्कैन कराने को दो घंटे करना पड़ा इंतजार

मेडिकल कालेज में आर्थो के रोगियों की बड़ी संख्या ने एक्सरे सेंटर पर भी लोड बढ़ा दिया। यहां दोपहर तक तीन सौ के करीब रोगी एक्सरे कराने पहुंचे। इससे टेक्नीशियन काफी दबाव में काम करते दिखाई दिए। रोगियों की भीड़ के चलते यहां धक्कामुक्की जैसे हालात कई बार दिखाई दिए। वहीं सीटी स्कैन में भी कतार रही। पैथालॉजी में पंजीकरण से लेकर सैंपल देने और रिपोर्ट लेने के लिए लोगों को आधे से एक घंटे का समय खर्च करना पड़ा।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें