DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  देवरिया  ›  रामू के रसूख का बहुतों ने उठाया लाभ, वक्त के साथ बदल ली करवट
देवरिया

रामू के रसूख का बहुतों ने उठाया लाभ, वक्त के साथ बदल ली करवट

हिन्दुस्तान टीम,देवरियाPublished By: Newswrap
Sun, 13 Jun 2021 11:00 PM
रामू के रसूख का बहुतों ने उठाया लाभ, वक्त के साथ बदल ली करवट

देवरिया। निज संवाददाता

जिस रामू द्विवेदी की गिरफ्तारी के बाद लोग उससे रिश्ते छिपाने में लगे हैं, उसी रामू के रसूख का एक समय बहुतों ने खूब लाभ उठाया। कुछ बड़े ठेकेदार तो कुछ जिले के नामी प्रॉपर्टी डीलर बन गए। यह अलग बात है कि इसमें से कइयों वक्त की नब्ज पहचान करवट बदल ली। सपा व भाजपा के नेताओं का दामन थाम लिया तथा उनके सहारे सत्ता के संरक्षण में अपना कारोबार बढ़ाते रहे।

जिस समय जिले में रामू का आना- जाना शुरू हुआ, उस समय रामू का काफी रसूख था। बसपा में शामिल होने व बाद में एमएलसी बनने के बाद रामू का यह रसूख और बढ़ गया। रामू की खुद की अपनी दबंगई व पहचान को सत्ता का साथ मिल गया था। ऐसे में शहर व जिले में ठेकेदारी व प्रॉपर्टी के काम में लगे कई लोगों के लिए रामू का संरक्षण मुफीद लगा। इसमें कुछ ने तो एमएलसी चुनाव के दौरान ही प्रचार में लगकर अपनी पहचान बना ली थी। भाजपा के एक सभासद ने तो दल का जमकर विरोध कर रामू का साथ दिया। बचे-खुचे लोगों ने बाद में किसी न किसी के जरिए अपनी जगह बना ली। चूंकि रामू की भी इन कामों में रुचि थी, इसलिए इन लोगों को कही हिस्सेदारी तो कहीं रिश्तों के नाम पर रामू का संरक्षण मिलता गया और उनका कारोबार फलता-फूलता गया। विवाद भी हुआ तो सत्ता के संरक्षण के चलते हल हो गया, जबकि कई जगहों पर रामू का नाम ही मददगार बना रहा। महज कुछ ही दिनों में इसमें से कई बड़े प्रॉपर्टी डीलर बन गए तो कई बड़े ठेकेदार।

उसी दौर में कुछ ने रामू के संरक्षण में जिले के साथ दूसरी जगहों में भी काम शुरू कर दिया और बड़ा एसेट खड़ा कर लिया। इसमें से कईयों ने वक्त की नब्ज पहचान कर रामू का रसूख कम होने के साथ ही पहले सपा फिर बाद में भाजपा के नेताओं का दामन थाम लिया। कुछ ने तो वक्त के साथ रामू से दूरी भी बना ली और सत्ता के साथ जुड़कर अपने कारोबार को आज भी बढ़ा रहे हैं।

अब जबकि पुलिस ने रामू को गिरफ्तार करने के साथ उनके सहयोगियों की तलाश शुरू कर दी है, तो रामू के रसूख से लाभ लेने वाले लोगों के भी कान खड़े हो गए हैं। इसमें जो चिन्हित है, वह पुलिस से बचने के लिए फरार हैं, जबकि बाकी रामू से अपने रिश्तों को छिपाने में लगे हैं। इस कोशिश में इन लोगो ने या तो अपने मोबाइल आफ कर दिए हैं या लोगों से बातचीत कम कर दी है।

संबंधित खबरें