DA Image
18 जनवरी, 2021|6:19|IST

अगली स्टोरी

दुष्कर्म में 10 साल की सजा, 20 हजार का जुर्माना

default image

मऊ थाना क्षेत्र में युवती के साथ दुष्कर्म के मामले में गुरुवार को दोष सिद्ध होने पर अपर सत्र न्यायाधीश प्रदीप कुमार मिश्रा की अदालत ने आरोपित को 10 साल सश्रम कारावास की सजा सुनाई। इसके साथ ही 20 हजार रुपए के अर्थदंड से भी दंडित किया है। अभियोजन अधिकारी सिद्धार्थ आनंद ने बताया कि पीड़िता ने मऊ थाने में बरिया गांव के रामबहादुर उर्फ पुटुल के खिलाफ दुष्कर्म की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। दी गई तहरीर में पुलिस को बताया था कि 18 मई 2018 की रात करीब 10 बजे खाना खाने के बाद वह घर में सोने जा रही थी। इसी दौरान रामबहादुर घर आया और जबरन पकड़कर उसे ले जाने लगा। बचाव के लिए गुहार लगाने पर रामबहादुर उसका मुंह दबाकर घसीटते हुए एक नलकूप पर ले गया और उसके साथ दुष्कर्म किया। पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज करने के बाद आरोपी के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया था। मामले की सुनवाई कर रहे रेप केस एवं पाक्सो एक्ट न्यायालय के अपर सत्र न्यायाधीश प्रदीप कुमार मिश्रा ने बचाव और अभियोजन पक्ष के अधिवक्ताओं की दलीलें सुनी। दोष सिद्ध होने पर गुरुवार को दोषी रामबहादुर को सजा सुनाई।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Sentenced to 10 years in misdemeanor fined 20 thousand