DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › चित्रकूट › चार दिन की बारिश में दलदल बन सड़कें
चित्रकूट

चार दिन की बारिश में दलदल बन सड़कें

हिन्दुस्तान टीम,चित्रकूटPublished By: Newswrap
Sat, 31 Jul 2021 11:42 PM
चित्रकूट। संवाददाता
 पिछले चार दिन से हो रही बारिश के चलते जनपद के ज्यादातर...
1 / 4चित्रकूट। संवाददाता पिछले चार दिन से हो रही बारिश के चलते जनपद के ज्यादातर...
चित्रकूट। संवाददाता
 पिछले चार दिन से हो रही बारिश के चलते जनपद के ज्यादातर...
2 / 4चित्रकूट। संवाददाता पिछले चार दिन से हो रही बारिश के चलते जनपद के ज्यादातर...
चित्रकूट। संवाददाता
 पिछले चार दिन से हो रही बारिश के चलते जनपद के ज्यादातर...
3 / 4चित्रकूट। संवाददाता पिछले चार दिन से हो रही बारिश के चलते जनपद के ज्यादातर...
चित्रकूट। संवाददाता
 पिछले चार दिन से हो रही बारिश के चलते जनपद के ज्यादातर...
4 / 4चित्रकूट। संवाददाता पिछले चार दिन से हो रही बारिश के चलते जनपद के ज्यादातर...

चित्रकूट। संवाददाता

पिछले चार दिन से हो रही बारिश के चलते जनपद के ज्यादातर मार्गों में बड़े-बड़े गड्ढे हो गए हैं। कई जगह दलदल बन चुके मार्गों में आवागमन के दौरान वाहन फंस जाते हैं। मुख्यालय कर्वी राजापुर जाने वाले मार्ग में नई दुनिया व पहाड़ी कस्बे के पास सड़क काफी ध्वस्त हो चुकी है। इस मार्ग से रोजाना सैकड़ा भारी वाहन गुजरते हैं। यही हाल राजापुर कस्बे के पास है। राजापुर से लालता रोड़ को जोड़ने वाला मार्ग भी ध्वस्त हो गया है।

जनपद में पिछले कई दिनों से जोरदार बारिश हो रही है। बारिश की वजह से ज्यादातर मार्ग दलदल बनते जा रहे हैं। मार्गों में जगह-जगह जलभराव होने से डामरीकरण ध्वस्त हो गया है। जिससे बड़े-बड़े गड्ढे हो गए हैं। ऐसे ध्वस्त हो चुके मार्गों से भारी वाहनों के आवागमन पर परेशानी बढ़ रही है। मुख्यालय कर्वी से राजापुर को जाने वाले मार्ग की हालत कई जगह बहुत ही खराब हो चुकी है। शहर से सटे नई दुनिया के पास कई जगह सड़क पर जलभराव की स्थिति रहती है। बारिश का पानी हमेशा भरा रहता है। जिससे भारी वाहनों के निकलने से गड्ढे हो गए है। वाहनों के फंसने की संभावना अधिक बनी रहती है। इसी मार्ग में पहाड़ी के पास भी कई जगह गड्ढे हो गए हैं। खास बात यह है कि इस मुख्य मार्ग में भारी वाहनों का आवागमन अधिक रहता है। रोजाना करीब पांच सौ ट्रक गुजरते है। प्रयागराज, फतेहपुर, कौशांबी, रायबरेली, प्रतापगढ़, लखनऊ के लिए यही मुख्य मार्ग है।

कई साल से ध्वस्त सड़क नहीं बनी

कस्बा राजापुर से लालता रोड़ के पास हाईवे में जुड़ने वाले इस मार्ग की हालत पिछले कई वर्ष से खराब है। अभी तक पूरे मार्ग का निर्माण नहीं हो सका है। आधे से अधिक दूरी तक मार्ग पूरी तरह से ध्वस्त हो चुका है। कहीं भी डामरीकरण तक नजर नहीं आ रहा है। इस मार्ग से करीब एक सैकड़ा गांव के लोगों का आवागमन होता है। बरसात के दिनों में लोग इस मार्ग से आवागमन करने में डरते हैं। कई दिनों से हो रही बारिश में मार्ग की हालत और भी खराब हो चुकी है। जगह-जगह गड्डों में जलभराव की स्थिति बनी है।

सूरजकुंड मार्ग की हालत हुई खराब

मुख्य मार्गों के अलावा ग्रामीण अंचलों की सड़कें भी बारिश में खराब हुई है। मंदाकिनी किनारे प्रसिद्ध तीर्थ स्थल सूरजकुंड को जाने वाले मार्ग में बड़े-बड़े गड्ढे हो चुके हैं। करीब पांच किमी. लंबे मार्ग से कई गांव जुड़े हैं। लोगों का इसी मार्ग से आवागमन होता है। बारिश होने पर पूरे मार्ग में जलभराव हो जाता है। सूरजकुंड मंदिर में दूर-दूर से श्रद्धालुओं का आवागमन होता है। लोग भंडारा करने भी पहुंचते है। इनको मौजूदा समय पर आवागमन में कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है।

तुलसी नगरी में अक्सर फंसे रहते भारी वाहन

राजापुर। गोस्वामी तुलसीदास की नगर राजापुर कस्बे में सड़कों की हालत बहुत ही खराब हो चुकी है। कई जगह जलभराव के साथ ही सड़कें पूरी तरह ध्वस्त हो चुकी हैं। भारी वाहनों का लगातार आवागमन हो रहा है। ऐसे में अक्सर यहां पर भारी वाहन फंस जाते हैं। जिनको जेसीबी लगाकर निकालना पड़ता है। हालत यह है कि लोगों का पैदल निकलना मुश्किल हो रहा है। कस्बे के रैपुरा तिराहे पर लोग बहुत ही मुश्किलों से निकल पाते हैं। छोटे वाहनों को सर्वाधिक आवागमन में दिक्कतें हो रही हैं।

संबंधित खबरें