Police should have better communication among general public DIG - आम जनता के बीच बेहतर संवाद रखे पुलिस: डीआईजी DA Image
20 फरवरी, 2020|7:39|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आम जनता के बीच बेहतर संवाद रखे पुलिस: डीआईजी

आम जनता के बीच बेहतर संवाद रखे पुलिस: डीआईजी

डीआईजी चित्रकूटधाम दीपक कुमार ने सोमवार को दोपहर बाद जिले के थाना, एसपी कार्यालय व पुलिस लाइन का औचक निरीक्षण किया। उन्होनें निरीक्षण दौरान पुलिस व आम जनता के बीच बेहतर संवाद व समन्वय बनाने के लिए कड़े निर्देश दिए। पिछले दिनों अयोध्या मामले में आए ऐतिहासिक फैसले के दौरान विशेष सतर्कतापूर्व शांति व्यवस्था बनाए रखने पर पुलिस अधिकारियों व जवानों की पीठ थपथपाई।

पुलिस लाइन में हुई हुई बैठक में डीआईजी ने कहा कि पाठा क्षेत्र डकैतों से मुक्त हो चुका है। बचे हुए डकैतों पर शिकंजा कसा जाए। किसी भी हालत में नया गैंग नहीं तैयार होना चाहिए। इसके लिए संबंधित इलाके के इंचार्ज अपने-अपने क्षेत्रों में बारीकी से नजर रखें। थाना व चौकियों में किसी भी प्रकार का दलाल नहीं नजर आना चाहिए। अन्यथा की स्थिति में संबंधित के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। डीआईजी ने सबसे पहले मऊ थाना पहुंचकर जायजा लिया। उन्होनें एसओ को थाना परिसर की साफ-सफाई व पेयजल व्यवस्था पर विशेष ध्यान देने के लिए निर्देशित किया। इसके साथ ही समस्त रजिस्टरों का अवलोकन कर अभिलेखों के रखरखाव के निर्देश दिए। थाना स्तर पर फीड किए जा रहे सीनियर सिटिजेन से संबंधित रजिस्टर व साफ्टवेयर को डीआईजी ने चेक किया। कहा कि आने वाले फरियादियों की समस्याओं को प्राथमिकता से सुनकर उनका निस्तारण किया जाए। फरार आरोपितों की गिरफ्तारी की जाए। इसके बाद डीआईजी ने पुलिस लाइन में बैठक ली। कहा कि पाठा से डकैत गिरोहों का सफाया तो हो गया है, लेकिन अब विशेष सतर्कता इस पर रखनी होगी कि कोई नया गैंग तैयार न होने पाए। इसके लिए क्षेत्र में भ्रमण कर नजर रखें। अपराधी व अराजकतत्वों के खिलाफ कार्रवाई करें। थानों में अनावश्यक लोग न बैठें। पुलिस की सह पर कोई अत्याचार न करने पाए। आपरेशन चलाकर डकैत गौरी यादव गैंग का सफाया किया जाए। इस दौरान एसपी अंकित मित्तल, एएसपी बलवंत चौधरी, सीओ सिटी रजनीश यादव, सभी सीओ, एसओ व चौकी प्रभारी मौजूद रहे।

फर्जी फंसाने की शिकायत पर की जांच

मऊ। डीआईजी दीपक कुमार ने सोमवार को मऊ थाना पहुंचकर औचकर निरीक्षण के साथ ही एक शिकायती मामले की जांच किया। जिसमें तिलौली निवासी शंभूनाथ तिवारी पुत्र संपतलाल तिवारी ने शिकायती किया था कि उसके बेटे राजभवन तिवारी को फर्जी तरीके से गांजा विक्री के मामले में फंसा दिया गया है। एक पुलिस अधिकारी के चालक पर फर्जी फंसाने का आरोप था। डीआईजी नेइस मामले में पीड़ित पक्ष को बुलाकर बंद कमरे में बयान दर्ज किए। इसी मामले में कुछ अन्य लोगों के भी बयान लिए गए है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title: Police should have better communication among general public DIG