ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश चित्रकूटनौतपा आज से, 45 डिग्री तक पहुंच सकता तापमान

नौतपा आज से, 45 डिग्री तक पहुंच सकता तापमान

चित्रकूट, संवाददाता। नौतपा शनिवार से लग जाएंगे। इस बीच लगातार नौ दिन लोगों को...

नौतपा आज से, 45 डिग्री तक पहुंच सकता तापमान
हिन्दुस्तान टीम,चित्रकूटFri, 24 May 2024 06:10 PM
ऐप पर पढ़ें

चित्रकूट, संवाददाता।

नौतपा शनिवार से लग जाएंगे। इस बीच लगातार नौ दिन लोगों को भीषण गर्मी से जूझना पड़ेगा। मौसम विभाग ने नौतपा में तापमान बढ़ने के साथ ही लू, उष्ण लहर व हीटवेव की संभावना जताई है। एक-दो दिन आसमान में बादल भी छाए रहेंगे, लेकिन गर्मी से राहत मिलने की कोई संभावना नहीं है। अक्सर नौतपा में बारिश होती रही है, इस बार मौसम विभाग ने बारिश की कोई संभावना नहीं जताई है।

इन दिनों लोगों को भीषण गर्मी से जूझना पड़ रहा है। उमसभरी गर्मी में हालत खराब हो रही है। इधर 25 मई शनिवार से नौतपा भी लग रहे है। नौतपा में तापमान बढ़ने के साथ ही तपन से लोग हर साल जूझते है। हालांकि अक्सर नौतपा में बारिश भी होती रही है। लेकिन इस बार ऐसा होता नहीं नजर आ रहा है। जिससे लोगों को उमसभरी गर्मी में अत्यधिक जूझना पड़ेगा। कृषि विज्ञान केन्द्र गनीवा के मौसम वैज्ञानिक डा मनोज शर्मा कहते हैं कि नौतपा में तापमान बढ़ने की पूरी संभावना है। अधिकतम तापमान 45 डिग्री तक जा सकता है। आगामी 28 व 29 मई को बादल छाए रहेंगे, लेकिन बारिश की कोई संभावना नहीं है। हवाओं की गति तेज रहेगी। लू, उष्ण लहर, हीटवेव रहेगा। इन दोनो दिन में हीटवेव का अलर्ट है। इसके पहले 26 मई रविवार को एलो अलर्ट रहेगा।

गर्मी में ट्रिपिंग से लड़खड़ा रही बिजली आपूर्ति

उमसभरी गर्मी के बीच इन दिनों बिजली आपूर्ति लड़खड़ा रही है। ट्रिपिंग और फाल्ट की वजह से लाइनें प्रभावित हो रही है। ओवरलोड व गर्मी की वजह से पावर हाउस में लगे ट्रांसफार्मर हीट हो रहे है। जिसके चलते ट्रांसफार्मरों का तापमान कम करने के लिए कभी-कभी कटौती भी करनी पड़ रही है। शहरी इलाकों में किसी तरह बिजली आपूर्ति काफी हद तक ठीक है, लेकिन ग्रामीण अंचलों में अक्सर रात के समय दो से तीन घंटे कटौती होती है।

प्याऊ लगाना लोग इस बार भूल गए

सार्वजनिक स्थानों पर हर साल ठंडा पानी उपलब्ध कराने के लिए प्याऊ खोले जाते रहे है। लेकिन इस बार कहीं प्याऊ संचालित होते नहीं नजर आ रहे है। फलस्वरूप राहगीरों को होटलों के अलावा हैंडपंपों का सहारा लेना पड़ रहा है। क्योंकि वॉटर कूलरों के भरोसे लोगों को ठंडा पानी नहीं मिल रहा है। शहर में ज्यादातर वॉटर कूलर खराब भी है। केवल प्रमुख स्थानों पर ही लगे वॉटर कूलर चल रहे है।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।