DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  चित्रकूट  ›  शासन ने बंद किया कांटा, ठप हुई गेहूं खरीद
चित्रकूट

शासन ने बंद किया कांटा, ठप हुई गेहूं खरीद

हिन्दुस्तान टीम,चित्रकूटPublished By: Newswrap
Thu, 17 Jun 2021 05:51 AM
शासन ने बंद किया कांटा, ठप हुई गेहूं खरीद

चित्रकूट। संवाददाता

केन्द्रों में गेहूं से लदे ट्रैक्टरों को देखते हुए प्रदेश सरकार ने खरीद का समय 22 जून तक बढ़ाया है। लेकिन शासन स्तर से ही बुधवार को कांटा बंद कर दिए गए। जिसकी वजह से बुधवार को जिले के 39 केन्द्रों में एक भी तोला गेहूं किसी किसान का नहीं तौला जा सका है। ऐसे में किसानों में हाय तौबा मची है। केवल मुख्यालय के दो केन्द्रों में ही खरीद के लिए कांटे खुले हैं। डीएम ने इस मामले में फिर से कांटा चालू करने के लिए शासन को पत्र लिखा है।

जिले में गेहूं किसानों के लिए करीब नौ हजार किसानों ने पंजीकरण कराया है। जिसमें अब तक करीब 8400 किसानों का लगभग 29500 एमटी गेहूं खरीदा जा चुका है। इसमें 20100 एमटी गेहूं का उठान खरीद केन्द्रों से हो गया है। किसानों का अभी करीब 12 करोड़ रुपए भुगतान बकाया है। प्रदेश सरकार ने केन्द्रों में गेहूं से लदे ट्रैक्टरों के खड़े होने की वजह से खरीद का समय 22 जून तक बढ़ाया है। इससे किसानों को उम्मीदें जगी थी कि एक सप्ताह का समय मिलने की वजह से उनका गेहूं बिक जाएगा। लेकिन समय बढ़ाने के साथ ही शासन स्तर से केन्द्रों के कांटा बंद कर दिए गए। फलस्वरूप बुधवार को गल्ला मंडी कर्वी में संचालित दो केन्द्रों के अलावा अन्य सभी 37 जगह खरीद ठप रही। किसान गेहूं से लदे ट्रैक्टर लेकर डेरा जमाए हुए हैं। डिप्टी आरएमओ संजय श्रीवास्तव ने बताया कि शासन स्तर से ही कांटा बंद किए गए हैं। केवल दो केन्द्रों में खरीद चल रही है। कांटा कब तक खुलेंगे, कुछ कहा नहीं जा सकता है। फिलहाल मंडी के दो केन्द्रों में ही रोजाना छह सौ कुंतल तक की खरीद हो पाएगी। बताया कि डीएम की ओर से शासन को कांटा खोलने के लिए पत्र भेजा गया है।

संबंधित खबरें