DA Image
6 दिसंबर, 2020|3:41|IST

अगली स्टोरी

मानिकपुर से नर्स को लेकर जिला अस्पताल आ रही थी एंबुलेंस

default image

स्वास्थ्य महकमे की लापरवाही के चलते बीमार नर्स ने रास्ते में लाते समय एंबुलेंस में ही दम तोड़ दिया। परिजनों का आरोप है कि एंबुलेंस में रखा आक्सीजन का सिलेंडर खाली था। आक्सीजन के अभाव में मौत हुई है। जिला अस्पताल के चिकित्सकों ने काफी देर तक नर्स को हाथ नहीं लगाया। वहीं सीएमओ ने फिलहाल मामले की जानकारी होने से इंकार करते हुए कहा कि संज्ञान में आने के बाद जांच कराकर कार्रवाई की जाएगी।

मानिकपुर कस्बे के शिवनगर मोहल्ले की रहने वाली पूजा अग्रहरि (23) पुत्री अरूण अग्रहरि वाराणसी में नर्स के पद पर तैनात है। वह रविवार को वाराणसी से वापस घर आई थी। सोमवार को अपरान्ह बाद करीब तीन बजे अचानक पूजा के पैरों में जकड़न महसूस हुई। उसकी हालत खराब होती देख परिजन तत्काल सीएचसी मानिकपुर लेकर पहुंचे। चिकित्सकों ने प्राथमिक इलाज के बाद हालत गंभीर होने पर जिला अस्पताल रेफर कर दिया। परिजन उसे एंबुलेंस से लेकर जिला अस्पताल आ रहे थे। परिजनों के मुताबिक रास्ते में उन लोगों ने एंबुलेंस कर्मी से आक्सीजन लगाने की बात कही। जिस पर उसने आक्सीजन लगाया। लेकिन सिलेंडर में आक्सीजन ही नहीं थी। वह पूरी तरह से खाली था। लेकिन एंबुलेंस कर्मी ने मशीन खराब होने की बात कही। जिला अस्पताल पहुंचने से पहले ही उसने दम तोड़ दिया। परिजनों का आरोप है कि लापरवाही के चलते मौत हुई है। जिला अस्पताल पहुंचने के बाद एंबुलेंस चालक व सहयोगी दोनों लोग चुपचाप खिसक गए। आरोप लगाया कि उन लोगों ने जिला अस्पताल में जाकर चिकित्सकों को बताया, लेकिन किसी ने आकर मरीज को अटेंड नहीं किया। वहीं इस मामले में सीएमएस डॉ. आरके गुप्ता का कहना है कि एंबुलेंस में आक्सीजन आदि की पूरी जिम्मेदारी संबंधित एजेंसी की है। जिला अस्पताल से इसमें कोई मतलब नहीं है। सीएमओ डॉ. विनोद कुमार यादव का कहना है कि अभी मामला उनके संज्ञान में नहीं आया है। अगर किसी तरह की कोई शिकायत आई तो वह इसकी जांच कराकर कार्रवाई करेंगे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Ambulance was coming from Manikpur to the district hospital with a nurse