DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  चंदौली  ›  रेलवे अस्पताल के डाक्टर आरपी सिंह बने देवदूत

चंदौलीरेलवे अस्पताल के डाक्टर आरपी सिंह बने देवदूत

हिन्दुस्तान टीम,चंदौलीPublished By: Newswrap
Sat, 15 May 2021 03:13 AM
रेलवे अस्पताल के डाक्टर आरपी सिंह बने देवदूत

पीडीडीयू नगर। संवाददाता

डाक्टर को भगवान के दूसरा स्वरूप माना जाता है। कोरोना संकटकाल में डॉक्टर किसी देवदूत से कम नहीं हैं। रेलवे लोको अस्पताल में कोरोना वार्ड के नोडल अधिकारी डा. आरपी सिंह भी लगातार अपने कर्तव्य का दायित्व करते हुए रेलकर्मियों के अलावा गैर रेलकर्मियों को भी ऑनलाइन उपचार कर जीवनदान देने में जुटे हैं। उनकी पहल से अब तक दो दर्जनों से अधिक संक्रमित ऑनलाइन परामर्श से स्वस्थ हो चुके हैं।

कोरोना संक्रमण काल में जहां अन्य अस्पतालों में मरीज आक्सीजन सहित असुविधा को लेकर परेशान है। वही रेलवे लोको अस्पताल में आक्सीजन सहित अन्य सुविधा पर्याप्त मात्रा में उलब्ध है। नोडल अधिकारी डा. आरपी सिंह भर्ती मरीजों व होम आइसोलेशन में रहने वाले रेलकर्मियों का समुचित उपचार करने के साथ बेहतर देखभाल कर रहे है। इसके अलावा कई जिले के गैर रेलकर्मियों को भी ऑनलाइन परामर्श देने के साथ ही निगरानी करने में जुटे हैं। इसका परिणाम यह है कि दर्जनों गैर रेलकर्मी काफी संक्रमित होने के बाद भी स्वस्थ्य हो चुके हैं। इसमें वाराणसी का अनामिका कुमारी, राजेश सिंह, गोरखपुर मनमोहन सहित दर्जनों लोगों को संक्रमित होने के बाद परामर्श के साथ ही समय समय पर निगरानी करते रहे। लोगों का कहना है कि घर पर रहकर भी अस्पताल से बेहतर निगरानी से अब पूरी तरह स्वस्थ हो चुके हैं। डॉ. आरपी सिंह ने बताया कि संक्रमण की आशंका होते ही निर्धारित कोरोना की दवा शुरू कर देना चाहिए। इससे 50 प्रतिशत बीमारी पर काबू पाया जा सकता है।

संबंधित खबरें