DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  चंदौली  ›  गंगा के तटवर्ती गांवों के ग्रामीणों में दहशत

चंदौलीगंगा के तटवर्ती गांवों के ग्रामीणों में दहशत

हिन्दुस्तान टीम,चंदौलीPublished By: Newswrap
Sat, 15 May 2021 03:13 AM
गंगा के तटवर्ती गांवों के ग्रामीणों में दहशत

चहनियां। हिन्दुस्तान संवाद

चंदौली समेत पूर्वांचल के कई जिलों में गंगा नदी में लगातार बहते शवों के मिलने का सिलसिला जारी है। इससे गंगा के तटवर्ती गांवों के ग्रामीणों में दहशत बढ़ने लगा है। गांव में तेजी से कोरोना संक्रमण का दायरा बढ़ रहा है। ऐसे में गंगा में अनजान संक्रमितों के शवों को बहाए जाने से ग्रामीणों को महामारी का प्रकोप बढ़ने का डर सताने लगा है।

जिले के धानापुर ब्लॉक के बड़ौरा गांव के समीप गुरुवार को गंगा में आठ शवों के मिलने के बाद तटवर्ती गांवों के ग्रामीण चिंतित हैं। तटवर्ती गांव कांवर, महुअरिया, बिषुपुर, महुआरी खास, सराय, बलुआ, महुअर, हरधन, विजयी के पूरा, गनेशपूरा, टांडाकला, नादी निधौरा आदि गांवों के ग्रामीण अब नदी किनारे जाने से कतराने लगे हैं। ग्रामीणों का कहना है कि मोक्षदायिनी गंगा तटवर्ती गांवों की दिनचर्या में शामिल हैं। ग्रामीण गंगा में जहां प्रतिदिन डुबकी लगाते हैं। वहीं महिला पूजा अर्चना करने जाती हैं। लेकिन वाराणसी, बलिया, गाजीपुर के बाद अब चंदौली जिले में भी गंगा में उतराया शव मिलने लगा हैं। सभी शव कोरोना संक्रमित होने की संभावना है। ऐसे में गांवों में संक्रमण का दायरा और अधिक बढ़ सकता है। ग्रामीणों ने शासन-प्रशासन से गंगा में शवों को प्रवाहित करने पर रोक लगाने की मांग की है। उधर, बलुआ थाना प्रभारी उदय प्रताप सिंह ने कहा कि ग्रामीणों को डरने की जरुरत नहीं है। गंगा में शव मिलें, तो तत्काल पुलिस को सूचना दें।

संबंधित खबरें