DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  चंदौली  ›  किसानों को ढैंचा खेती करने के लिए करें प्रेरित : कृषि मंत्री

चंदौलीकिसानों को ढैंचा खेती करने के लिए करें प्रेरित : कृषि मंत्री

हिन्दुस्तान टीम,चंदौलीPublished By: Newswrap
Tue, 01 Jun 2021 03:20 AM
किसानों को ढैंचा खेती करने के लिए करें प्रेरित : कृषि मंत्री

चंदौली। संवाददाता

राज्य स्तरीय खरीफ उत्पादकता गोष्ठी का सोमवार को वर्चुअल आयोजन किया गया। एनआईसी कक्ष में वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए जिले के अधिकारियों ने कृषि, कृषि शिक्षा एवं अनुसंधान मंत्री सूर्यप्रताप शाही ने संबोधित किया। उन्होंने कहा कि अचनाक मौसम में परिवर्तन के कारण बारिश हुई थी। इस दौरान बिक्री के लिए टोकन प्राप्त करने वाले किसानों के गेहूं के खरीद की जाए। लापरवाही बरतने वाले क्रय एजेंसी को निरस्त कर दिया जाएगा। चेताया कि किसान का शत-प्रतिशत गेंहू की खरीद हो सके। इसके लिए निरंतर प्रयास जारी रखा जाए। साथ ही क्रय केंद्रों पर कोविड प्रोटोकाल का पालन कराया जाए।

कृषि मंत्री ने कहा कि किसानों के हित में चलाए जा रहे कल्याणकारी योजनाएं किसान क्रेडिट कार्ड, पीएम किसान निधि योजना एवं फसल बीमा योजना सहित अन्य कृषि से जुड़े योजनाओं का लाभ मिल रहा है। इसे और प्रभावी बनाया जाए। कहा कि प्रदेश में उर्वरकों की पर्याप्त व्यवस्था है। डीएपी का निर्धारित मूल्य सभी सहकारी समिति पर अंकित किया जाए। यदि कहीं भी कालाबाजारी संज्ञान में आया तो विभागीय कार्रवाई की जाएगी। किसानों को बीज समय से मुहैया कराई जाए। कृषि रक्षा इकाई पर बीज की उपलब्धता पर्याप्त मात्रा में संबंधित अधिकारी सुनिश्चित कराएं। इसके अलावा किसानों को ढैचा के खेती करने के लिए प्रेरित करें। ढैचा के लाभकारी गुणों से भी जागरूक किया जाए। फसल बीमा योजना के बारे में अधिक से अधिक किसानों को पे्ररित किया जाए। प्रगतिशील किसानों से समंवय स्थापित किया जाए। कृषि विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिया कि बारिश के पानी का संचयन करने के लिये किसानों को प्रेरित किया जाए। वहीं धान, गेंहू की खेती के साथ-साथ दलहन, तिलहन की खेती के बारे में जागरूक किया जाए। उद्यान विभाग के लाभकारी खेती के लिये बताया जाए। इसमें उद्यान विभाग किसानों का पूरा सहयोग करेगा। इसके अलावा मत्स्य पालन करने वाले व्यक्तियों को लाभांवित किया जाए। उन्होंने चेताया कि कृषि विभाग से दिये जाने वाले कृषि यंत्रों व बीजों के हस्तांतरण में लेटलतीफी बर्दाश्त नहीं की जाएगी। इसके लिए वह स्वयं जिम्मेदार होंगे।

संबंधित खबरें