ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश चंदौलीसंदिग्ध परिस्थिति में महिला शिक्षामित्र का लटकता मिला शव

संदिग्ध परिस्थिति में महिला शिक्षामित्र का लटकता मिला शव

संदिग्ध परिस्थिति में महिला शिक्षामित्र का लटकता मिला शव संदिग्ध परिस्थिति में महिला शिक्षामित्र का लटकता मिला...

संदिग्ध परिस्थिति में महिला शिक्षामित्र का लटकता मिला शव
हिन्दुस्तान टीम,चंदौलीFri, 08 Dec 2023 12:15 AM
ऐप पर पढ़ें

इलिया, हिन्दुस्तान संवाद
चकिया कोतवाली क्षेत्र के सैदूपुर कस्बा में गुरुवार की शाम महिला शिक्षामित्र 40 वर्षीय सुमन का संदिग्ध परिस्थिति फंदा से लटकता शव मिला। मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर चकिया जिला संयुक्त च्ििाकत्सालय के मर्चरी में रखवाकर मामले की छानबीन करने में जुटी है। वही घटना को लेकर तरह तरह की आशंका व्यक्त की जा रही है।

सैदूपुर कस्बा के वासुदेव मौर्य की पुत्री सुमन कस्बा के प्राथमिक विद्यालय द्वितीय में शिक्षामित्र के पद पर कार्यरत थी। इसका विवाह शहाबगंज थाना क्षेत्र के भोड़सर गांव निवासी स्वर्गीय मेखुर के पुत्र रामभजन मौर्य से हुआ था। मृतिका को 14 वर्ष की पुत्री श्रेया तथा पुत्र शिवम 12 वर्ष है। वह पति और बच्चों के साथ सैदूपुर कस्बा में ही मकान बनाकर रहती थी। वही पति के बेरोजगार रहने के कारण परिवार का भरण पोषण ठीक ढंग से नहीं हो रहा था। इससे अवसाद से ग्रसित रहती थी। वहीं पति-पत्नी में आए दिन किच-किच हुआ करता था। घटना के वक्त दोनों बच्चे कोचिंग के लिए गए हुए थे। इसी दौरान रोशनदान के एंगल में साड़ी का फंदा से महिला शिक्षामित्र का लटकता शव मिला। मृतका के भाई अजय मौर्य ने बताया कि उसके पति का व्यवहार पत्नी के प्रति ठीक नहीं था। आए दिन दोनों में लड़ाई झगड़ा होता रहता था। घटना के वक्त भी उसका पति मौके पर मौजूद था। घटना के बाद बाहर का दरवाजा बंद कर भाग गया। थानाध्यक्ष अतुल कुमार ने बताया कि प्रथम दृष्टया मामला आत्महत्या का प्रतीत होता है। पीएम रिपोर्ट आने के बाद ही मामले का खुलासा हो पाएगा।

शिक्षामित्र की मौत लग रहा संदेहास्पद

शिक्षामित्र सुमन की मौत हत्या है या आत्महत्या, यह अबूझ पहेली बनी हुई है। क्योंकि सुमन की बेडरूम के पीछे आंगन में स्थित रोशनदान में साड़ी का फंदा से शव लटका था। वही कुर्सी गिरी हुई थी और दरवाजा बंद नहीं था। घटना के बाद पत्नी के भाई को सूचना देने खुद पति गया था। इस दौरान पति चाय की दुकान पर बैठा रहा। सरल स्वभाव की सुमन आर्थिक तंगी तथा अवसाद से ग्रसित रहने के बाद भी शिक्षामित्र की ड्यूटी नियमित समय पर करती थी।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें