ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश चंदौलीपहाड़ी क्षेत्रों में हुई ओलावृष्टि,आकाशीय बिजली से दंपति झुलसे

पहाड़ी क्षेत्रों में हुई ओलावृष्टि,आकाशीय बिजली से दंपति झुलसे

अचानक मौसम बदलने से जिलेभर में मंगलवार की सुबह करीब साढ़े पांच बजे तेज गरज चमक के साथ बारिश हुई। चकिया के लतीफशाह के पास आकाशीय बिजली गिरने से...

पहाड़ी क्षेत्रों में हुई ओलावृष्टि,आकाशीय बिजली से दंपति झुलसे
हिन्दुस्तान टीम,चंदौलीWed, 14 Feb 2024 01:00 AM
ऐप पर पढ़ें

पीडीडीयू नगर, हिटी। अचानक मौसम बदलने से जिलेभर में मंगलवार की सुबह करीब साढ़े पांच बजे तेज गरज चमक के साथ बारिश हुई। चकिया के लतीफशाह के पास आकाशीय बिजली गिरने से दंपति झुलस गया। वहीं शाम को चकिया और नौगढ़ क्षेत्र के पचफेड़िया गांव सहित आसपास के इलाकों में ओलावृष्टि से काफी नुकसान हुआ है। हालांकि गेहूं की फसल छोटी होने से इस बारिश से फायदा हुआ है। लेकिन बारिश और ओले गिरने से दलहनी व तिलहनी की फसलों सहित आलू, मटर, फूलगोभी को नुकसान पहुंचा है। खेतों में आलू के सड़ने की आशंका बढ़ गई है। बारिश से सड़कों पर कीचड़ फैलने से चलना मुश्किल हो रहा है। नगरीय व ग्रामीण इलाकों की गलियों व सड़कों पर पानी भर गया।

बारिश से सबसे अधिक परेशनी पड़ाव से पीडीडीयू नगर, चंदौली से सकलडीहा, चहनिया से सैदपुर मार्ग पर हुई है। कारण कि इस मार्ग को फोर लेन व सिक्स लेन किया जा रहा है। ऐसे में जीटी रोड पर कीचड़ फैलने से लोग गिरकर चोटिल हो रहे हैं। स्थानीय लोगों ने जल्द से जल्द जल निकासी कर मरम्मत कराने की मांग की है। बारिश से चहनिया-पीडीडीयू मार्ग पर पानी भरने के साथ ही कीचड़ फैल गया है। सड़कों पर बने गढ्ढों में पानी भर गया है। लोगों का पैदल चलना तक दुश्वार हो गया है। बरसात के पानी से मुख्य मार्गो सहित गांवो के मार्गो पर भी पानी भर गया है। तीरगांवा से होते हुए चहनियां से चन्दौली तक व चहनियां से पीडीडीयू नगर मार्ग से लेकर ग्रामीण मार्गों पर लोगो का पैदल चलना दुश्वार हो गया है।

नौगढ़ व चकिया प्रतिनिधि के अनुसार, ओलावृष्टि से क्षेत्र के अनेकों गांवों में रबी की फसलों व पौधों को काफी नुकसान पहुंचा है। इससे पैदावार कम होने की आशंका बढ़ गई है। मंगलवार को अल सुबह ही हुयी बूंदाबांदी और दोपहर बाद हुयी काफी तेज बरसात व ओलावृष्टि होने से अमदहां, चरनपुर, गोलाबाद, मलेवर, मलेवरिया, भगेलपुर, डूमरिया, रिठियां, बाघी, नौगढ़, बटौवां ईत्यादि गांवो के खेतों में गेहूं, जौ, चना, मसूर के पौधों व अधपकी अरहर सरसो के पेड़ों को बहुत काफी क्षति पहुंची है। किसान ज्ञानचंद, अर्जुन, बसंत, रामलाल, गोबिंद, गुलाब, बचाऊ, संतोष गौरी, अजय, राकेश, रामजी ने बताया कि बीते दिसंबर माह में असमय हुयी बरसात से धान की फसल को क्षति पहुंची थी। चकिया इलाके में दिनभर रूकरूक कर बारिश होती रही। वहीं पचफेड़िया इलाके में हुई ओलावृष्टि से फसलों को नुकसान हुआ है।

झुलसे दंपति का अस्पताल में चल रहा उपचार

इलिया। चकिया कोतवाली क्षेत्र के लतीफ शाह बाबा मजार के समीप मंगलवार की शाम आकाशीय बिजली के चपेट में आने से विक्की 25 वर्ष व सैदुलनिशा 20 वर्ष दंपति गंभीर रूप से झुलस गए। जिन्हे इलाज के लिए एंबुलेंस से चकिया स्थित जिला संयुक्त चिकित्सालय पहुंचाया गया। जहां दोनों का इलाज चल रहा है। मुसाखांड गांव निवासी विक्की अपनी पत्नी सैदुल निशा के साथ लतीफ शाह बाबा की मजार पर जियारत करने आए थे। इसी बीच तेज गरज के साथ आकाशीय बिजली गिरी। इसके चपेट में आने से पति-पत्नी गंभीर रूप से घायल हो गए। आसपास के लोगों की मदद से एंबुलेंस ने घायलों को चकिया स्थित जिला संयुक्त चिकित्सालय पहुंचाया गया। जहां दोनों का इलाज चल रहा है।

बारिश से कच्ची ईंटें खराब, लाखों का नुकसान

पीडीडीयू नगर। बेमौसम बरसात से किसानों के साथ साथ इंट भट्ठा संचालक भी परेशान हैं। मंगलवार को हुई बारिश भट्ठा संचालकों को भी काफी नुकसान पहुंचा है। लाखों रुपये की कच्ची इंट खुले आसमान के नीचे होने के कारण बारिश से नुकसान हो गई है। इससे काफी क्षति हुई है। जिले में 200 के करीब इंट भट्ठा संचालित हैं। क्षेत्र के मई कला, सहजीर, कैली कुरहना, तड़िया सहित अन्य इलाकों में दर्जनों भट्ठों में बरसात का पानी भर जाने के कारण भट्ठा स्वामियों के लिए लाखों रुपए का नुकसान उठाना पढ़ा है। क्षेत्र के परवेज अख्तर, नियाज खान, हाजी सिराजुद्दीन, दीना सिंह अभिषेक यादव, असलम खान ने कहा कि प्रत्येक भड्डों पर लाखों रुपये के नुकसान होने का अनुमान है। अखिल भारतीय ईंट निर्माता संघ के उत्तर प्रदेश चेयरमैन रतन कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि अभी भट्टा चालू हुआ है कि बारिश से पानी भर गया कच्ची ईंट पानी से खराब हो गई है।

गेहूं की फसल के लिए फायदेमंद है बारिश

चंदौली। जिले में मंगलवार की सुबह से लेकर देर शाम तक हुई बारिश गेहूं की फसल के लिए फायदेमंद है। सरसों, अलसी, चना, मटर में फुल और फली आने का समय है। इन फसलों में माहो लगने के आसार बढ़ गए हैं। कृषि वैज्ञानिक डा. अभयदीप गौतम ने बताया कि जिन फसलों में फूल लिए हैं। वह फसल बारिश से प्रभावित होंगे। इससे पैदावार पर विपरीत प्रभाव पड़ेगा। क्योंकि बारिश से फसलों पर लगे फूल गिर जाते हैं। उन्होंने बताया कि जो आलू अभी खोदा नहीं गया है। आलू के सड़ने व टमाटर, फूलगोभी के खराब होने की आशंका है। मौसम साफ हो गया तो किसानों को कुछ राहत मिल सकती है। कृषि वैज्ञानिक डा. अभयदीप गौतम के अनुसार जिले में 7-8 एमएम के बीच बारिश हुई है। वहीं मंगलवार को अधिकतम तापमान 24 और न्यूनतम तापमान 18 डिग्री रिकार्ड किया।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें