अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डीएम के आदेश पर कार्यो की जांच शुरू

बरहनी विकास खंड क्षेत्र के इमिलियां गांव इन दिनों चर्चा का विषय बना है। ग्राम प्रधान व ग्राम विकास अधिकारी पर सरकारी धन का गबन करने का आरोप लगा ग्रामीणों ने मंगलवार को संपूर्ण समाधान दिवस पर प्रार्थना पत्र दिया था। इसे संज्ञान में लेते हुए डीएम ने जांच के लिए दो टीम का गठित कर रिपोर्ट प्रेषित करने का निर्देश दिया। टीम गांव में विकास कार्याें व ग्रामीणों की शिकायत की जांच पड़ताल में जुटी है। आरोप है कि गांव में शौचालय निर्माण के नाम पर भुगतान में हेराफेरी की गई है। 
ग्रामीणों का आरोप है कि डीएम को दिए शिकायती पत्र में ग्राम प्रधान व ग्राम विकास अधिकारी ने मिलकर शौचालय का करीब साढ़े 11 लाख रुपये भुगतान एक व्यक्ति को कर दिया। जबकि शासनादेश है कि शौचालय निर्माण का पैसा प्रत्येक लाभार्थियों के खाते में डाला जाए। ताकि लाभार्थी अपने स्तर से शौचालय का निर्माण कर सकें। अलग से भी 45 अभ्यर्थियों के शौचालय निर्माण के नाम पर भुगतान कर दिया गया। जबकि खर्च के अनुपात में शौचालय निर्माण की संख्या काफी कम है। आखिर अधिक पैसा कहां गया, यह जांच का विषय है। दोनों की मिलीभगत से तीन मृतक और बोलेरो व ट्रैक्टर रखने वाले दो एकड़ से अधिक के काश्तकारों को भी शौचालय दिया गया। मनरेगा भुगतान में भी धांधली की गई। उधर, ग्राम प्रधान अनुज सिंह ने बताया कि गांव में विकास को देख विपक्षी बौखला गए हैं। मामले की जांच हो रही है। सारी बात अपने आप की स्पष्ट हो जाएगी। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:DMs order starts investigating works