DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अवसादग्रस्त युवक ने लगाई फांसी, मौत

अवसादग्रस्त युवक ने लगाई फांसी, मौत

अलीनगर थाना क्षेत्र के टड़िया गांव के सिवान में के सिवान में बुधवार को 30 वर्षीय नरेंद्र चौहान ने बंसवाड़ी में गमछे के सहारे फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। नरेंद्र दो दिन पहले अपने ससुर के साथ मानसिक इलाज कराने साढ़ू के घर आया था। घटना के बाद परिजनों का रो रोकर बुरा हाल बना रहा।

नौगढ़ थाना क्षेत्र के अमृतपुर बघौलिया गांव निवासी 30 वर्षीय नरेंद्र चौहान दो दिन पहले अपने ससुर देवकिशुन के साथ ककरही कलां गांव में अपने साढू तेन सिंह चौहान के घर इलाज करवाने आया था। परिजनों के अनुसार कुछ महीने पूर्व पट्टीदारों साथ जमीन विवाद के बाद से ही नरेंद्र मानसिक तनाव से गुजर रहा था। उसे गुरुवार की सुबह बीएचयू वाराणसी ले जाना था। लेकिन बुधवार की रात लगभग 11 बजे लघुशंका करने के लिए साढू के घर से निकला। इसके बाद वापस नहीं लौटा। देर रात तक ससुर और साढू खोजबीन करते रहे। गुरुवार की सुबह सिवान में बंसवाड़ी में गमछे के सहारे फांसी के फंदे पर लटकता नरेंद्र का शव मिलने से सनसनी मच गई। पुलिस ने मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल भिजवाया। घटना के बाद मृतक की मां शारदा देवी, बहन शिव कुमारी, पत्नी कलावती का रो-रोकर बुरा हाल रहा। 

एकलौता बेटा था नरेंद्र
पिता स्वर्गीय रामकेश चौहान वन विभाग में वॉचमैन थे।जिनकी मौत दो वर्ष पूर्व होने के बाद मां शारदा देवी को उनकी जगह नौकरी मिली थी। एकलौता पुत्र नरेंद्र की 6 वर्ष पूर्व चकिया के छित्तमपुर गांव निवासी देवकिशुन चौहान की बेटी कलावती से शादी हुई थी। दंपती की एक बेटी व एक बेटा है। लेकिन पट्टीदारों के जमीन विवाद में नरेंद्र को इतना झकझोर कर रख दिया कि पुलिस का डर सताने लगा। आरोप है कि पट्टीदारों ने फर्जी तरीके से पुलिस केस में फंसाने की धमकी दी थी। नरेंद्र का कई दिनों से इलाज चल रहा था। परिजन बीएचयू में इलाज कराने की तैयारी कर रहे थे, लेकिन नरेंद्र ने फांसी लगाकर अपनी ईहलीला समाप्त कर ली

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Depressed young man hangs death