DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › चंदौली › शिशु के लिए स्तनपान होता है सर्वोत्तम आहार
चंदौली

शिशु के लिए स्तनपान होता है सर्वोत्तम आहार

हिन्दुस्तान टीम,चंदौलीPublished By: Newswrap
Sun, 01 Aug 2021 03:20 AM
शिशु के लिए स्तनपान होता है सर्वोत्तम आहार

चंदौली। संवाददाता

जिले में विश्व स्तनपान सप्ताह रविवार से मनाया जाएगा। इस दौरान अभियान को सफल बनाने के लिए धात्री माताओं व गर्भवती महिलाओं को स्तनपान को लेकर जागरूक किया जायेगा। एएनएम, स्टाफ नर्स, आशा, आशा संगिनी और आंगनबाड़ी कोरोना की तीसरी लहर से बचाव एवं रोकथाम को ध्यान में रखते हुए नवजात के माता-पिता को स्तनपान व उपरी आहार की पूर्ण जानकारी देंगी।

डीसीपीएम सुधीर राय ने बताया कि प्रत्येक वर्ष की तरह इस बार भी विश्व स्तनपान सप्ताह एक से सात अगस्त तक मनाया जाएगा। कोरोना की तीसरी लहर से बचाव एवं रोकथाम के नियमों को ध्यान में रखते हुए नवजात और मां की स्वास्थ्य सुरक्षा के लिए स्तनपान सुरक्षा की जिम्मेदारी 'साझा जिम्मेदारी' थीम के साथ अभियान चलाया जाएगा। कहा कि शिशु के लिए स्तनपान सर्वोत्तम आहार और मौलिक अधिकार है। स्तनपान से मां व शिशु का मानसिक व शारीरिक विकास होता है। शिशु डायरिया, निमोनिया, कुपोषण से बचा रहता है। वहीं रोग प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि होती है। अभियान में मुख्य रूप से समुदाय की महिलाओं को जन्म के एक घंटे के अंदर स्तनपान कराना, छह माह तक सिर्फ स्तनपान कराना एवं कंगारू मदर केयर, गृह आधारित नवजात देखभाल आदि के बारे में जानकारी देकर कामकाजी महिलाओं को जागरूक किया जाएगा। डा. महिमा नाथ ने कहा कि स्तनपान कराने से मां और शिशु को बहुत से फायदे होते है। प्रसवोपरांत अत्यधिक रक्तस्राव का खतरा कम हो जाता है। स्तन कैंसर, गर्भाशय कैंसरव अंडाशय के कैंसर के खतरे कम हो जाते हैं। हड्डियों का कमजोर पड़ने का प्रकरण भी कम होने व वजन घटाने में सहयोगी होता है। मां का दूध शिशु के स्वास्थ्य के लिए बेहद महत्वपूर्ण एवं सम्पूर्ण आहार होता है। दूध में पाया जाने वाला कोलेस्ट्रम शिशु को रोग प्रतिरोधक क्षमता प्रदान करता है।

संबंधित खबरें