DA Image
1 जून, 2020|3:45|IST

अगली स्टोरी

अनशनरत अधिवक्ता ने की आत्मदाह की घोषणा

अनशनरत अधिवक्ता ने की आत्मदाह की घोषणा

न्यायालय भवन निर्माण की मांग को लेकर दो सप्ताह से अधिवक्ता सदर कचहरी परिसर में आंदोलनरत हैं। पांच दिनों से वरिष्ठ अधिवक्ता सुरेंद्र सिंह आमरण अनशन पर बैठे हैं। इसके बाद भी प्रशासन और सत्ता पक्ष संवेदनहीन बना है। इससे अनशन पर बैठे अधिवक्ता ने आक्रोश व्यक्त करते हुए आत्मदाह की घोषणा की है। जिला प्रशासन को चेताया कि यदि 24 घंटे के अंदर न्यायालय भवन निर्माण की ठोस पहल नहीं की गई, तो कचहरी के सामने चिता सजेगी।

डेमोक्रेटिक बार के अध्यक्ष अनिल सिंह ने कहा कि प्रशासन और जनप्रतिनिधि अधिवक्ताओं के धैर्य की परीक्षा नहीं लें। यदि अधिवक्ताओं का धैय टूट गया, तो उग्र आंदोलन होगा। अधिवक्ता उज्जवल सिंह ने कहा कि न्यायालय भवन निर्माण की मांग को लेकर अधिवक्ता दो सप्ताह से आंदोलनरत हैं। लेकिन प्रशासन गंभीर नहीं है। अधिवक्ता शमशुद्दीन ने कहा कि न्यायालय के लिए जमीन उपलब्ध कराने में प्रशासन ने संवेदनहीनता की हद पार कर दिया है। झन्मेजय सिंह ने अधिवक्ता गांधीवादी तरीके से अपनी लड़ाई लड़ रहे हैं। जिला प्रशासन की शिथिलता दूर नहीं हुई, तो सड़क पर उतरना पड़ेगा। अधिवक्ता शमशेर बहादुर सिंह ने कहा कि एक-दो दिन में न्यायालय भवन निर्माण के लिए जमीन रजिस्ट्री का हल निकाला जाए। इस मौके पर अधिवक्ता नंदलाल, मुरलीधर सिंह, संतोष सिंह, डा. वीरेंद्र प्रताप सिंह, मोहम्मद अकरम, राकेशरत्न तिवारी, विद्याचरण सिंह, श्रीनिवास पांडेय, निशांत अख्तर, चंद्रभान सिंह, इमरान सिद्दीकी, टिविकंल सिंह, अनिल सिंह, हिटलर सिंह आदि मौजूद रहे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:A fasting advocate declared self-immolation