DA Image
25 सितम्बर, 2020|4:06|IST

अगली स्टोरी

जिपं अध्यक्ष चुनाव सीधे जनता से कराने की तैयारियों का स्वागत

default image

प्रदेश में योगी आदित्यनाथ सरकार ने त्रिस्तरीय चुनाव में जिला पंचायत अध्यक्ष और ब्लॉक प्रमुख का चुनाव सीधे जनता से कराने की ओर कदम बढ़ाया है। सरकार के इस फैसले का लोगों ने स्वागत किया है। लोगों का मानना है कि इससे भ्रष्टाचार पर रोक लगेगी और धनबल का प्रयोग भी खत्म हो जाएगा। बताते चलें कि इस पंचवर्षीय योजना में जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए खासी मारामारी रही। सबसे पहले हरेन्द्र यादव ने 16 जनवरी 2016 को जिला पंचायत अध्यक्ष पद संभाला। लगभग डेढ़ वर्ष बाद उनके खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव आया और उन्होंने वोटिंग से पहले ही इस्तीफा दे दिया। हरेन्द्र यादव के इस्तीफा देने के बाद डॉ. रोशन जैकब को शासन ने प्रशासक नियुक्त किया। इसके बाद प्रदीप चौधरी जिला पंचायत अध्यक्ष बने। 29 अगस्त 2017 को प्रदीप चौधरी ने जिला पंचायत अध्यक्ष पद की कुर्सी संभाली। सियासत ने अपना रंग दिखाया और अविश्वास प्रस्ताव के चलते उन्हें 18 फरवरी 2019 को कुर्सी छोड़नी पड़ी। एक बार फिर से चार्ज तत्कालीन डीएम अभय सिंह के पास आ गया। वर्तमान में चौधरी ओमवीर सिंह जिला पंचायत अध्यक्ष हैं। बताते चलें कि जनता द्वारा चुने गए जिला पंचायत सदस्य ही जिला पंचायत अध्यक्ष का चुनाव करते हैं। जग जाहिर है कि किस प्रकार से जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी पर काबिज हुआ जाता है। अध्यक्ष पद के लिए साम-दाम-दंड-भेद सभी कुछ अपनाया जाता है। धनबल का जमकर प्रयोग होता है। सरकार अब जिला पंचायत अध्यक्ष और ब्लॉक प्रमुख का चुनाव सीधे जनता से कराने की ओर कदम बढ़ाया है। भ्रष्टाचार होगा खत्म, विकास पर रहेगा ध्यानसरकार के इस फैसले को लेकर लोगों ने अपनी प्रतिक्रिया दी है। लोगों का कहना है कि इससे भ्रष्टाचार पर तो लगाम लगेगी। साथ ही विकास कार्यों में भी गति आएगी। कोट---सरकार सही कदम उठाने जा रही है। इससे भ्रष्टाचार पर रोक लगेगी और विकास की ओर सभी का ध्यान रहेगा। -महेन्द्र भैया, जिपं सदस्यसरकार का सही निर्णय है। इससे बहुत सारी परेशानियों का हल होगा। गुटबाजी खत्म होगी और सभी का ध्यान क्षेत्र के विकास पर केन्द्रित होगा। -पंकज प्रधान, जिपं सदस्यअध्यक्ष पद के लिए किस तरह से जोर आजमाइश की जाती है यह जगजाहिर है। जनता द्वारा चुने गए जिला पंचायत अध्यक्ष कुर्सी बचाने के बजाए विकास पर ध्यान देंगे। -हितेन्द्र शर्मा, एडवोकेटजिला पंचायत अध्यक्ष और ब्लॉक प्रमुख जनता के द्वारा ही चुना जाना चाहिए। इससे सदस्यों की खरीद-फरोख्त नहीं हो सकेगी और जिला पंचायत के कार्य सुचारू रूप से चलेंगे।-मुशीर रियाज, नौकरीपेशा

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Welcome to the preparations for holding the President of the election directly from the public