DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिजली चोरी में एसडीओ व जेई पर गिर सकती है गाज

जटपुरा में स्थित पूर्व जिला पंचायत अध्यक्षा के बेटे राहुल गिरि के दूध प्लांट पर बड़े स्तर पर बिजली चोरी पकड़ी गई थी। पूरे मामले में अब शिकारपुर एसडीओ व जेई पर गाज गिर सकती है। एसई ने बिजली चोरी में एसडीओ की संलिप्ता की रिपोर्ट एमडी को भेजी है। इधर, चीफ इंजीनियर ने अगले सप्ताह जेई के खिलाफ जांच कराकर रिपोर्ट भेजने की बात कही है।चीफ इंजीनियर आरपीएस तोमर ने बताया कि सलेमपुर क्षेत्र में स्थित राजदीश फूड्स दूध प्लांट व अनिल फूड्स प्लांट पर बिजिलेंस टीम व पावर कॉरपोरेशन के अफसरों ने बड़ी बिजली चोरी पकड़ी थी। पूरे मामले में बिजली चोरी करने के आरोप में रिपोर्ट दर्ज कराई थी। साथ ही शासन को भी रिपोर्ट भेजी गई थी। दूध प्लांट में एचटी लाइन से सीधे 160 केवीए के दो ट्रांसफार्मर चलाकर बिजली चोरी की जा रही थी। कार्रवाई के दौरान मैं छुट्टी पर गया था। उन्होंने बताया कि एसई एके सिंह ने पूरे मामले की जांच की। जिसमें एसडीओ सोमदत्त सोलंकी की संलिप्ता मिलने पर एमडी को रिपोर्ट भेज दी गई है। चीफ इंजीनियर ने बताया कि 40 केवीए के कनेक्शन के लिए जेई पूरी तरह जिम्मेदार होता है। जल्द ही जेई की जांच कराकर एमडी को रिपोर्ट भेजी जाएगी। इतनी बड़ी चोरी पकड़े वरिष्ठ अफसरों ने जवाब मांगा गया है। जेई और एसडीओ के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। - जेई संगठन कर रहा विरोधउनका कहना रहा कि पूरे मामले में जेई संगठन के सदस्य अफसरों पर आरोप लगा रहे हैं। जेई संगठन में चोरी के मामले में आक्रोश पनप रहा है। एसई की जांच में संलिप्ता पाए जाने के बाद ही एमडी को रिपोर्ट भेजी गई है। - जेई संगठन ने दिया चीफ इंजीनियर को पत्र राज्य विद्युत परिषद जूनियर इंजीनियर्स संगठन की ओर से चीफ इंजीनियर को 26 जुलाई में पत्र दिया है। जिसमें संगठन के क्षेत्रीय अध्यक्ष आरसी द्विवेदी द्वारा अवगत कराया गया है। कि संगठन मानता है कि इतनी बड़ी चोरी में कहीं न कहीं अफसर कर्मचारियों की मिलीभगत हो सकती है। उन्होंने कहा है कि पूरे मामले में आपके द्वारा गहनता से जांच की जा रही है, लेकिन बिजली चोरी के मामले में संगठन को विभागीय साक्ष्य मिले हैं। यदि मौका दिया जाए तो संगठन साक्ष्य प्रस्तुत कर दे। उन्होंने कहा कि यदि साक्ष्य लेने के लिए नहीं बुलाया गया तो वह शासन स्तर तक जाएंगे। उन्होंने कहा कि एसडीओ संगठन के सदस्य नहीं है, मगर उनके खिलाफ की गई कार्रवाई गलत है। जिसका संगठन विरोध करता है।कोट-कार्यालय प्रत्येक दिन खुलता है। यदि कोई साक्ष्य हैं तो उन्हें कार्यालय में आकर दे सकते हैं। साक्ष्य लेने के लिए मना नहीं किया गया है। संगठन जेई को बचाने के लिए ब्लैकमेल कर रहा है।- आरपीएस तोमर, चीफ इंजीनियर

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Two injured in Yamuna Expressway accident, three injured