DA Image
21 अक्तूबर, 2020|2:16|IST

अगली स्टोरी

एसटीएफ ने मुठभेड़ के बाद दबोचा 25 हजार का इनामी मोनू

default image

एसटीएफ ने मुठभेड़ के बाद दबोचा 25 हजार का इनामी मोनू

फोटो संख्या- 7

- पूर्व प्रधान संजय की हत्या के मामले में फरार चल रहा था आरोपी मोनू

बुलंदशहर। संवाददाता

एसटीएफ मेरठ ने कोतवाली देहात पुलिस के साथ मिलकर भूड चौराहे के पास से संजय हत्याकांड में फरार 25 हजार के इनामी मोनू को मुठभेड़ के बाद दबोच लिया। देहात पुलिस ने पूछताछ कर आरोपी का चालान कर दिया है।

15 जून को कोतवाली देहात की यमुनापुरम कालोनी में खानपुर के गांव जाडौल के पूर्व प्रधान संजय की गोलियां बरसाकर हत्या कर दी गई थी। हत्याकांड में दो नामजद एवं अन्य अज्ञात शूटरों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई गई। पुलिस ने दोनों नामजद आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया, जबकि जांच में धनौरा निवासी अमित, जयकुमार उर्फ जैका, सोनू उर्फ प्रमोद के नाम प्रकाश में आए। पता चला कि अमित ने रंजिश के चलते अपने साथियों के साथ मिलकर घटना को अंजाम दिया। तीनों शूटरों पर 50-50 हजार रुपये का इनाम घोषित किया गया, जिन्हें एसटीएफ नोएडा ने गिरफ्तार कर देहात पुलिस को सौंप दिया था। पुलिस की जांच में यह भी पता चला कि औरंगाबाद के गांव मनोहरगढ़ी निवासी मोनू पुत्र सुरेंद्र ने हत्या वाली रात को पूर्व प्रधान संजीव उर्फ संजय की मुखबिरी की थी। आरोपी मोनू के फरार रहने पर उस पर 25 हजार रुपये का इनाम घोषित कर दिया गया। बीती रात एसटीएफ मेरठ ने एक सूचना पर कोतवाली देहात पुलिस के साथ मिलकर भूड चौराहे पर इनामी मोनू को घेर लिया। मुठभेड़ के बाद मोनू को दबोच लिया गया। एसएसपी संतोष कुमार सिंह ने बताया कि आरोपी मोनू का पूछताछ कर चालान कर दिया है।

जमीन में धोखाधड़ी का लगाया आरोप

पुलिस की पूछताछ में आरोपी मोनू ने बताया कि उसने संजय के साथ मिलकर गंगेरूआ बाईपास पर 19 लाख रुपये की जमीन खरीदी थी। इस जमीन में संजीव प्रधान ने प्लाटिंग करनी शुरू कर दी और उसको एक रुपया नहीं दिया। उसके रुपये मांगने पर धमकी दी गई। इसके चलते उसने मुखबिरी कर पूर्व प्रधान की हत्या में सहयोग किया।

---------------------

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:STF apprehended 25 thousand prize monu after encounter