ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश बुलंदशहरतेंदुए को देखकर किसान ने खुद को ट्यूबवेल में बंद किया

तेंदुए को देखकर किसान ने खुद को ट्यूबवेल में बंद किया

नरसेना में सेही का शिकार करने के बाद तेंदुआ क्षेत्र के गांव भड़कऊ में देखा गया। अचानक तेंदुआ किसान के सामने आ गया जिससे किसान की सांसे अटक गई। घबराए...

तेंदुए को देखकर किसान ने खुद को ट्यूबवेल में बंद किया
हिन्दुस्तान टीम,बुलंदशहरTue, 14 May 2024 10:55 PM
ऐप पर पढ़ें

नरसेना में सेही का शिकार करने के बाद तेंदुआ क्षेत्र के गांव भड़कऊ में देखा गया। अचानक तेंदुआ किसान के सामने आ गया जिससे किसान की सांसे अटक गई। घबराए किसान ने खुद को ट्यूबवेल के कमरे में बंद कर लिया और ग्रामीणों को बुला लिया। इसके बाद वन विभाग और ग्रामीणों ने जंगल में सर्च अभियान चलाया, लेकिन वह जंगल में छुप गया।

बीते दो सप्ताह से तेंदुए ने नरसेना थाना क्षेत्र में आतंक मचा रखा है, क्षेत्र के गांव मोहम्मदपुर बरवाला, गेसूपुर, चंदियाना, नरसेना, भड़कऊ समेत कई गांव में तेंदुआ देखा गया है। सोमवार को गांव नरसेना में किसानों के सामने ही तेंदुए ने सेही का शिकार किया। इसके बाद तेंदुआ गांव भड़कऊ के जंगलों में देखे जाने का दावा किया गया है। गांव भड़काऊ निवासी रिटायर्ड अध्यापक मानक चंद्र शर्मा ने बताया कि वह अपने खेत में पानी लगा रहे थे। ऐसे दौरान पास के ही खेत में पेड़ के नीचे अचानक उनके सामने तेंदुआ गया। तेंदुए को देखकर वह संन्न रह गई। इसके बाद तेंदुआ उनकी तरफ देखने लगा तो वह घबरा गए और दौड़कर ट्यूबवेल के कमरे में कुंडी लगाकर खुद को बंद कर लिया। उन्होंने इसकी सूचना अपने भाई बाबूलाल को फोन कर दी। मौके पर ग्रामीण पहुंचे और घबराए किसान को ट्यूबवेल से बाहर निकाला। ग्रामीणों ने जंगल में सर्च अभियान चलाया लेकिन तेंदुआ छुप गया।

तेंदुए को पकड़ने में दिलचस्पी नहीं दिख रहा वन विभाग, ग्रामीणों में रोष

क्षेत्र के गांव मोहम्मदपुर बरवाला में किस पर हमले के बाद तेंदुआ लगातार क्षेत्र में देखा जा रहा है लेकिन वन विभाग इसे डॉग फैमिली का जानवर बात कर अपना पल्ला झाड़ता चला आ रहा है गांव भड़काऊ और नौसेना में एक सप्ताह में दो बार तेंदुआ देखे जाने का ग्रामीण द्वारा दावा किया गया है। ग्रामीणों का आरोप है कि वन विभाग तेंदुए को पकड़ने में दिलचस्पी नहीं दिख रहा है और जंगल में न तो पिंजरा लगाया गया है और नहीं जाल तेंदूए पकड़ने के नाम पर खानापूर्ति की जा रही है। जंगल में वन विभाग के केवल तीन कर्मचारी सूचना मिलने पर मौके पर जाते हैं और तेंदूए के पांव के निशान की जांच कर लौट आते हैं। किसानों को जंगल में जाते समय तेंदुए के हमले का डर सता रहा है।

कोट -

गांव भड़कऊ में तेंदुआ देखे जाने की जानकारी नहीं है, मौके पर जाकर जांच की जाएगी। नरसेना के जंगल में सर्च अभियान चलाया जा रहा है।

-प्रवेश कुमार, रेंजर अनूपशहर

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।