DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › बुलंदशहर › यूपी बोर्ड में बेटियों पर बरसे अंक, बेटे अंकों में पिछड़े
बुलंदशहर

यूपी बोर्ड में बेटियों पर बरसे अंक, बेटे अंकों में पिछड़े

हिन्दुस्तान टीम,बुलंदशहरPublished By: Newswrap
Sun, 01 Aug 2021 03:50 AM
यूपी बोर्ड में बेटियों पर बरसे अंक, बेटे अंकों में पिछड़े

यूपी बोर्ड के परीक्षा परिणाम में जिले की बेटियों पर अंकों की बरसात हुई है। इस बार भी बेटियों ने अंक प्राप्त करने में झंडे गाड़े हैं। हाईस्कूल एवं इंटरमीडिएट में पंजीकृत बेटियों को सफलता मिली है। बेटियों का कक्षा नौ एवं 11 वीं का परिणाम बेहतर रहा तो परर्फोमेंस के आधार पर कई विषयों में शत प्रतिशत अंक मिले हैं। तीन हजार से अधिक बेटियों को 90 से लेकर 99 तक के बीच में अंक प्राप्त हुए हैं।

उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद ने हाईस्कूल एवं इंटरमीडिएट की परीक्षाओं को कोरोना काल में रद्द कर दिया था। पिछली कक्षाओं के अंकों के आधार पर छात्रों को अंक मिले हैं। शनिवार को आए परीक्षा परिणाम में बेटियों ने नया इतिहास रचा है। अंकों का प्रतिशत हासिल करने में बेटियों ने बेटों को पछाड़ दिया है। जिले में हाईस्कूल में 18,740 तथा इंटरमीडिएट में 17,355 बेटियां पंजीकृत थी, परीक्षा परिणाम बेटियों का शत प्रतिशत रहा है, मगर जिस फार्मूले पर बेटियों को अंक दिए हैं, उसमें बेटियों को बेस्ट अंक मिले हैं। विज्ञान वर्ग, वाणिज्य वर्ग एवं मानविकी वर्ग में बेटियों को यह अंक मिले हैं। बेटियों के प्री-बोर्ड एवं अर्द्धवार्षिक और वार्षिक परीक्षाओं में अच्छे अंक थे, तो उन्हें फार्मूले का लाभ मिला है। इंटरमीडिएट में 23,852 बेटे थे, इसमें बेटे अंक लेने में कोई खास कमाल नहीं कर सके हैं। माध्यमिक विभाग के अनुसार करीब 700 से अधिक बेटे भी अच्छे अंक लाने में सफल रहे हैं।

----

इस फार्मूले पर मिले छात्रों को अंक

यूपी बोर्ड ने कोरोना काल में हाईस्कूल एवं इंटरमीडिएट की परीक्षाओं को रद्द कर दिया था। बोर्ड ने छात्रों को उत्तीर्ण करने का जो फार्मूले लगाया था उसमें इंटर के रिजल्ट में 50 फीसदी अंक हाईस्कूल, कक्षा 11 वीं की वार्षिक या अर्द्धवार्षिक परीक्षा के 40 फीसदी अंक और कक्षा 12 की प्री-बोर्ड के 10 फीसदी अंक लेकर इंटरमीडिएट का परीक्षा तैयार किया है। इसी तरह हाईस्कूल के रिजल्ट में कक्षा नौ की लिखित परीक्षा के 50 फीसदी, कक्षा दस की प्री-बोर्ड के 50 फीसदी अंक और विद्यालय स्तर पर हुई आंतरिक परीक्षाओं के अंकों को लेकर रिजल्ट बनाया है। इसमें बेटियों का रिजल्ट सबसे बेहतर रहा था और उन्हें बेस्ट अंक फार्मूले के हिसाब से मिले हैं।

संबंधित खबरें