DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गंगा के जलस्तर में और बढोत्तरी

गंगा के जलस्तर में और बढोत्तरी

पिछले दो दिन से गंगा के बढते जलस्तर में रविवार को भी बढोत्तरी दर्ज की गई। सुबह गंगा का जलस्तर शनिवार की अपेक्षा बढ गया। लेकिन हरिद्वार और बिजनौर से जल निकासी में कमी होने के चलते गंगा नदी में जलस्तर कम होने की संभावना है।

कई दिनों से मैदानी और पहाड़ी इलाकों में लगातार बारिश हो रही है। दिन प्रतिदिन बारिश होने से गंगा के जलस्तर लो फ्लड स्तर पर चल रहा है। सिंचाई विभाग के नरोरा हैड वक्र्स के अवर अभियंता गजेन्द्र सिंह ने बताया कि बैराज पर सायं दर्ज की गई रीडिंग में नरौरा बैराज पर कुल 1 लाख 47 हजार 310 क्यूसेक प्रति सेकंड की दर से पानी पहुंच रहा है। जो शनिवार की अपेक्षा बढा हुआ है। जबकि बैराज के डाउन स्ट्रीम में 1 लाख 34 हजार 260 क्यूसेक प्रति सेकंड की दर से पानी की निकासी हो रही है।

श्री सिह ने बताया कि नहरों में पानी की कम मांग होने के कारण बैराज से नहरों में पानी की निकासी कम की गई है। जिसके कारण पानी की निकासी कम कर निचली गंगा नहर में 6, 475 और समानांतर निचली गंगा नहर में 6,575 क्यूसेक प्रति सेकंड की दर से पानी छोड़ा जा रहा है।

अधिकारियों का कहना है कि यदि बारिश नहीं होती है तो हरिद्वार और बिजनौर बैराजों से डाउन स्ट्रीम में कम निकासी के कारण गंगा में जल्दी जलस्तर कम होने लगेगा। रविवार को हरिद्वार व बिजनौर बैराजों पर क्रमश: 80 हजार 706 और 1 लाख 22 हजार 452 क्यूसेक प्रति सेकंड का बहाव रहा।

राजघाट में गंगा के कटान से तटवर्ती इलाकों को खतरा

राजघाट गंगा तीर्थ पर इस वर्ष गंगा का जलस्तर बढने और घटने से तटवर्ती इलाकों में कटान का खतरा बरकार है। राजघाट प्रधान लता देवी ने बताया कि गंगा का जल तटवर्ती भवनों से सट कर चल रहा है। जिससे गंगा कुंज और बाबा सीताराम आश्रम आदि की दीवारें रोज क्षतिग्रस्त हो रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Increase in the water level of the Ganga