ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेश बुलंदशहरड्रग इंस्पेक्टर ने तीन इंजेक्शन के लिए 240 सैंपल

ड्रग इंस्पेक्टर ने तीन इंजेक्शन के लिए 240 सैंपल

जिला अस्पताल की इमरजेंसी वार्ड में इंजेक्शन लगाने से बिगड़ी तबीयत के मामले में सोमवार को ड्रग इंस्पेक्टर ने इंजेक्शन के सैंपल लिए हैं। जिसमें तीन...

ड्रग इंस्पेक्टर ने तीन इंजेक्शन के लिए 240 सैंपल
हिन्दुस्तान टीम,बुलंदशहरMon, 27 May 2024 10:40 PM
ऐप पर पढ़ें

जिला अस्पताल की इमरजेंसी वार्ड में इंजेक्शन लगाने से बिगड़ी तबीयत के मामले में सोमवार को ड्रग इंस्पेक्टर ने इंजेक्शन के सैंपल लिए हैं। जिसमें तीन इंजेक्शन शामिल हैं। सैंपल रिपोर्ट आने तक तीनों इंजेक्शन को स्टोर में अलग रख दिया गया है। शासन को भी इसकी रिपोर्ट भेजी गई है।

रविवार शाम को जिला अस्पताल की इमरजेंसी वार्ड में भर्ती मरीजों स्टाफ नर्स ने एंटीबायोटिक सेफ्ट्रिएक्सोन, रेनिटिडिन और इंजेक्शन दिया था। इंजेक्शन लगाने के बाद ही मरीजों की तबीयत बिगड़ने लगी। स्टाफ के मुताबिक माहिर, गौरव, आकांक्षा सोनम, आसिफ और मोनू समेत 13 को इंजेक्शन दिया गया था। मरीजों को अकड़न, सर्दी लगना, बैचेनी जैसी शिकायतें हुई तो वार्ड में अफरा- तफरी मच गई। मामले की जानकारी अस्पताल प्रशासन को दी गई । जिसके बाद बाल रोग विशेषज्ञ इमरजेंसी वार्ड में पहुंचे। इस दौरान तबीयत बिगड़ने पर परिजन तीन मरीजों को रेफर कराकर निजी अस्पताल ले गए थे। अब मामला प्रशासन के संज्ञान में आने पर सोमवार को ड्रग इंस्पेक्टर अनिल कुमार आनंद जिला अस्पताल पहुंचे। उन्होंने अस्पताल के स्टोर में एंटीबायोटिक सैफ्ट्रिएक्सोन, रेनिटिडिन और ओन्डेनसेट्रॉन इंजेक्शन के 80-80 सैंपललिए इसके साथ ही तीनों इंजेक्शन को स्टोर में अलग रख दिया गया। रिपोर्ट आने तक कुल 7920 इंजेक्शन अलग किए गए हैं। इसमें सैफ्ट्रिएक्सोन के 1630, रेनिटिडिन के 1920 और ओनडस्ट्रोन के 4370 इंजेक्शन अलग कर दिए हैं। सैंपल की जांच रिपोर्ट आने पर ही इनका प्रयोग किया जाएगा।

- रिपोर्ट सही आई तो लगाने में हुई है गड़बड़

सोमवार को तीनों इंजेक्शन के सैंपल ले लिए गए हैं। अब अफसर का कहना है कि यदि तीनों इंजेक्शन की रिपोर्ट सही आती है तो इंजेक्शन को लगाने में गड़बड़ हुई है। इससे इनकार नहीं किया जा सकता है। सूत्रों का कहना है कि जिला पुरुष और महिला अस्पताल में इन्हीं इंजेक्शन का प्रयोग किया जाता है।

कोट--

इंजेक्शन की रिपोर्ट शासन को भेज दी है। अस्पताल में कॉरपोरेशन से दवाई इंजेक्शन और आदि सामान आता है। मेडिकल कालेज प्रधानाचार्य, अपर निदेशक के साथ ही शासन को रिपोर्ट भेज दी है।

-डॉ. राजीव प्रसाद, जिला अस्पताल

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।