DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › बुलंदशहर › डिग्री कॉलेजों में सीटें कम, उत्तीर्ण छात्रों की बढ़ गई संख्या
बुलंदशहर

डिग्री कॉलेजों में सीटें कम, उत्तीर्ण छात्रों की बढ़ गई संख्या

हिन्दुस्तान टीम,बुलंदशहरPublished By: Newswrap
Sun, 01 Aug 2021 03:50 AM
डिग्री कॉलेजों में सीटें कम, उत्तीर्ण छात्रों की बढ़ गई संख्या

कोरोना काल में बिना परीक्षाओं के उत्तीर्ण हुए इंटरमीडिएट के छात्रों के सामने अब यूजी में प्रवेश लेने की चुनौतियां हैं। कॉलेजों एडेड कॉलेजों में इतनी सीटें नहीं हैं और एक सीट पर 20 से अधिक छात्र अपनी दावेदारी ठोक रहे हैं। जिले में तीनों बोर्ड के 45,863 इंटरमीडिएट में उत्तीर्ण हुए हैं, जबकि 10 एडेड कॉलेजों में यूजी की कुल 1200 से अधिक सीटें हैं। ऐसे में कॉलेजों की मेरिट हाई रहेगी और छात्र प्रवेश से वंचित रहेंगे। छात्रों को सेल्फ फाइनेंस कोर्स में प्रवेश लेना पड़ सकता है।

तीनों बोर्डों द्वारा इंटरमीडिएट का परीक्षा परिणाम घोषित कर दिया है और अब डिग्री कॉलेजों में बीए, बीएससी व बीकॉम की प्रवेश प्रक्रिया शुरू होगी। बोर्ड का परिणाम लेट होने के कारण यूजी प्रथम वर्ष की प्रवेश प्रक्रिया भी अब काफी देरी से शुरू होगी। मगर कोरोना काल में जिस तरह से छात्र उत्तीर्ण हुए हैं उसके हिसाब से जिले के डिग्री कॉलेजों में सीटें नहीं हैं। जिले में करीब 12 एडेड कॉलेज हैं और इनमें बीए, बीएसी व बीकॉम की करीब 1200 सीटें हैं, जबकि उत्तीर्ण होने वाले छात्रों की संख्या के 44,417 है। ऐसे में यूजी में प्रवेश के लिए इस बार मारा-मारी रहेगी और छात्रों को प्रवेश से वंचित भी रहना पड़ सकता है। जिले में प्राइवेट कॉलेजों की बात करें तो इनकी संख्या 150 से अधिक हैं और इनमें प्रोफेशनल के साथ-साथ यूजी कोर्स भी हैं, मगर इनकी फीस अत्याधिक होने के कारण छात्र इनमें प्रवेश से किनारा कर लेते हैं। प्रोफेशनल कोर्स में भी सीटें ठीक-ठाक स्थिति में हैं और छात्रों का रूझान इस तरफ रहता भी हैं। शत-प्रतिशत रिजल्ट के साथ छात्रो के सामने यूजी में प्रवेश लेना एक चुनौती होगा।

------

ये हैं जिले के प्रमुख कॉलेज

डीएवी पीजी कॉलेज, आईपी पीजी कॉलेज, अमर सिंह पीजी कॉलेज, जेएएस डिग्री कॉलेज, एनआरईसी डिग्री कॉलेज, अग्रसैन डिग्री कॉलेज, एलडीएवी डिग्री कॉलेज, एकेपी डिग्री कॉलेज, राजकीय महाविद्यालय जहांगीराबाद, राजकीय महाविद्यालय बीबीनगर, दिगंबर जैन पीजी कॉलेज, डीएनी पीजी कॉलेज शामिल हैं। इसके अलावा गौरी शंकर कन्या महाविद्यालय व मुस्लिम गर्ल्स डिग्री कॉलेज सेल्फ फाइनेंस हैं तो इनमें भी प्रवेश के लिए काफी भीड़ रहती है।

संबंधित खबरें