DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गन्ने के साथ किसानों ने कलक्ट्रेट में बोला हल्ला

गन्ने के साथ किसानों ने कलक्ट्रेट में बोला हल्ला

1 / 2गन्ने के साथ किसानों ने कलक्ट्रेट पर हल्ला बोल दिया। कलक्ट्रेट में किसानों ने ट्रैक्टर ट्रालियों से लाकर गन्ना भर दिया तथा डीएम कार्यालय पर कब्जा कर...

गन्ने के साथ किसानों ने कलक्ट्रेट में बोला हल्ला

2 / 2गन्ने के साथ किसानों ने कलक्ट्रेट पर हल्ला बोल दिया। कलक्ट्रेट में किसानों ने ट्रैक्टर ट्रालियों से लाकर गन्ना भर दिया तथा डीएम कार्यालय पर कब्जा कर...

PreviousNext

गन्ने के साथ किसानों ने कलक्ट्रेट पर हल्ला बोल दिया। कलक्ट्रेट में किसानों ने ट्रैक्टर ट्रालियों से लाकर गन्ना भर दिया तथा डीएम कार्यालय पर कब्जा कर लिया। साथ ही किसानों ने पॉवर कारपोरेशन के अधिकारियों की लापरवाही से जला गन्ना भी एसई कार्यालय में भर दिया।

भाकियू के जिलाध्यक्ष दिगंबर सिंह ने धरने पर डीएम को चेतावनी देते हुए कहा कि डीएम साहब कलक्ट्रेट में किसानों का गन्ना तुलवाने की व्यवस्था करो। अब रोज किसान गन्ना लेकर कलक्ट्रेट कूच करेगा। पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुशार भाकियू के कार्यकर्ता टै्रक्टर ट्रालियों में गन्ना लादकर गन्ना समिति पहुंचे। गन्ना समिति से भाकियू के जिलाध्यक्ष दिगम्बर सिंह के नेतृत्व में किसान प्रदर्शन करते हुए कलक्ट्रेट पहुंचे और कलक्ट्रेट में गन्ना भर दिया। करीब 20 ट्रैक्टर ट्रॉलियों में गन्ना लादकर हजारों किसानों ने कलक्ट्रेट पर कब्जा कर डीएम कार्यालय पर धरना शुरू कर दिया। कलक्ट्रेट में किसान अपने हकों को लेकर खूब गरजे। भाकियू के जिलाध्यक्ष दिगंबर सिंह ने कहा कि शासन का आदेश था कि 25 तक चीनी मिल चल जाएगी। मिल चली नहीं तो जिले का किसान आज कलक्ट्रेट में गन्ना लेकर आया है। डीएम साहब इस गन्ने को तुलवाने का काम करो और किसानों को डिजिटल भुगतान करो। जिलाध्यक्ष ने कहा कि हमारे पास पर्ची है। अगर पर्ची झूठी लगती है तो कांटा लगवाए और किसानों का गन्ना तौले। जब तक चीनी मिल नहीं चलेगी तब तक किसान प्रतिदिन अपने खेत से गन्ना छिलाई कर कलक्ट्रेट में लाता रहेगा। भाकियू के जिलाध्यक्ष ने कहा कि कष्ट में किसान है। मजबूरी में यहां आए है। उन्होंने मंच से कहा कि आज किसान अपना गन्ना बेचने आया है और डिजिटल इंडिया की तर्ज पर पैसा लेने आया है। उन्होंने कहा कि किसानों की समस्या का निस्तारण नहीं हुआ तो जिले में किसी भी अधिकारी को नहीं बैठने दिया जाएगा। कलक्ट्रेट में धरने की अध्यक्षता मोहम्मद यामीन ने तथा संचालन राकेश प्रधान ने किया। :::::::तोप-गोले प्रशासन कर ले तैयार दिगम्बर सिंह ने कलक्ट्रेट में गन्ना भरने के बाद कहा कि जिले का किसान आज कलक्ट्रेट में आ गया है। जिला प्रशासन अपने तोप गोले छोड़ ले आज। किसान क्रांति यात्रा में किसान प्रशासन के तोप गोले झेल चुका है अब प्रशासन अपनी तोप तैयार कर ले, रोज किसान गन्ना कलक्ट्रेट में लाएगा। :::::::शासन बड़ा या डीसीओ भाकियू जिलाध्यक्ष दिगम्बर सिंह ने कहा कि शासन ने तो कहा है कि अक्टूबर में चीनी मिल चलेगी और डीसीओ कह रहे हैं कि नवंबर में चीनी मिल चलेगी। ऐसा लगता है कि डीसीओ शासन से बड़े हो गए हैं। ऐसे अफसरों का अब इलाज करना पड़ेगा। ::::::::::::शासनादेश का पालन कराए डीएम कलक्ट्रेट में प्रदेश व्यापी आंदोलन के दौरान जिलाध्यक्ष ने कहा कि शासन के आदेश थे कि चीनी मिल अक्टूबर में चलेगी। जिले के डीएम शासनादेश का पालन कराए। अगर वह ऐसा नहीं कर सकते हैं, किसानों का गन्ना नहीं बिकवा सकते है तो जिला छोड़ दे। अब ‘इफ और बट नहीं चलेगा। :::::::::::::::::::::::किसानों ने एक दिन पहले ही गन्ना कलक्ट्रेट में भरने की कर ली थी तैयारीकिसानों ने कलक्ट्रेट में गन्ना भरने के लिए एक दिन पहले ही गन्ने की छिलाई कराकर ट्रैक्टर ट्रॉलियों में गन्ना भर लिया था। किसान गन्ने की ट्राली पर गद्दे लेकर भी आए है। किसानों का कहना है कि अगर प्रशासन ने किसानों का गन्ना नहीं खरीदा तो कलक्ट्रेट में ही धरना चलेगा।:::::::::::::ये किसान आंदोलन में रहे मौजूद जिलाध्यक्ष दिगम्बर सिंह, ठाकुर रामौतार सिंह, अतुल कुमार, विजेन्द्र सिंह, राजेन्द्र सिंह, दीपक तोमर, संदीप त्यागी, सुनील प्रधान, जसवीर सिंह, लुधियान सिंह, सुरपाल सिंह, राकेश प्रधान, धीर सिंह बालियान, प्रमोद कुमार, वीर सिंह, समरपाल सिंह, मनोज कुमार , अमित कुमार, धर्मेन्द्र राणा, दिनेश कुमार, नरदेव सिंह, गजेन्द्र, अनुज कुमार, पृथ्वी सिंह आदि हजारों किसान मौजूद रहे। :::::::::::::::::::::प्रदर्शन के दौरान किसानों की आंखों में दिखा गुस्सा कलक्ट्रेट में किसानों की आंखों में गुस्सा दिखाई दिया। प्रदेश महासचिव ठाकुर रामौतार सिंह व मंडल महासचिव अतुल कुमार ने कहा कि इस समय किसान चारे की समस्या से जूझ रहा है। सरकार हो या अधिकारी किसानों की नहीं सुन रहे हैं। प्रदर्शन के दौरान किसानों का गुस्सा उबाल पर था। किसानों ने मंच से जिला प्रशासन को खूब खरी खोटी सुनाई। :::::::::::::::::::बड़ी संख्या में पुलिस रही तैनातकिसानों के आंदोलन को लेकर कलक्ट्रेट में काफी संख्या में पुलिस बल मौजूद रहा। एएसपी सिटी दिनेश कुमार सिंह ने किसानों के बीच बैठकर हुक्का पिया। सीओ सिटी समेत कई थानाध्यक्ष फोर्स सिहत कलक्ट्रेट में मौजूद रहे।::::::::::::::एसई के सामने मेज पर किसानों ने पटक दिया गन्ना00 एसई कार्यालय में गुस्साएं किसानों ने भर दिया जला हुआ गन्ना00 एसई से किसानों ने की जले हुए गन्ने का चैक दिलाने की मांग फोटो::::::::बिजनौर। हमारे संवाददाताजर्जर लाइनों से हुए फाल्ट से जले किसानों के गन्ने को भाकियू के पदाधिकारियों ने एसई कार्यालय में भर दिया। इतना ही नहीं गुस्साएं किसानों ने जले हुए गन्ने को एसई कार्यालय में बैठे एसई सीपी सिंह की मेज पर ही पटक दिया। इसे पॉवर कॉरपोरेशन के अधिकारियों की लापरवाही ही कहेंगे कि पिछले कई सालों से जर्जर लाइनों से होने वाले फाल्ट से किसानों का गन्ना जल जाता है। किसानों को इस तरह का हर साल नुकसान होता है। किसानों की समस्याओं का निस्तारण नहीं होता। हॉ इतना जरुर है कि किसी ने किसी किसान का गन्ना हर साल जल जरुर जाता है। किसान अपने आंदोलन में जला हुआ गन्ना भी लेकर टै्रक्टर ट्राली से पहुंचे। कलक्ट्रेट में मंच से जिलाध्यक्ष दिगम्बर सिंह ने कहा कि एसई साहब या तो इस नुकसान का चेक दो अन्यथा यह गन्ना आपने के कार्यालय में भर दिया जाएगा। उधर से कोई जवाब न आने पर किसानों ने एसई कार्यालय में जला हुआ गन्ना भर दिया। इतना ही नहीं किसानों ने जला हुआ गन्ना एसई कार्यालय से उठाकर कार्यालय में बैठे एसई की टेबिल पर ही पटक दिया। किसानों ने एसई जर्जर लाइनों को सही कराने व नुकसान का मुआवजा दिलाने के लिए कहा। :::::::::--अफसरों की लापरवाही के चलते हर वर्ष किसानों का गन्ना जल जाता है। विभाग द्वारा किया जा रहा किसानों का उत्पीड़न बर्दाश्त नहीं होगा। एसई कार्यालय में किसानों ने गन्ना भर दिया है। अब जब भी किसान का गन्ना जलेगा एसई कार्यालय में भर दिया जाएगा। इतना ही नहीं किसान के गन्ने का पैसा भी अधिकारियों से लिया जाएगा। जिला प्रशासन वार्ता के लिए दवाब बना रहा है। जब तक किसानों का गन्ना तौलने की व्यवस्था जिला प्रशासन नहीं करता तब तक वार्ता नहीं होगी। दिगम्बर सिंह, जिलाध्यक्ष, भारतीय किसान यूनियन

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:With sugarcane farmers talk to collector