ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश बिजनौरसरकारी स्कूलों से निकलेंगे विश्वनाथन आनंद

सरकारी स्कूलों से निकलेंगे विश्वनाथन आनंद

जिले के सरकारी स्कूलों से अब शतरंज के विश्वनाथन आनंद निकलेंगे। हर सरकारी स्कूल में बच्चे शतरंज खेलेंगे और खेलने में माहिर होंगे।...

सरकारी स्कूलों से निकलेंगे विश्वनाथन आनंद
हिन्दुस्तान टीम,बिजनौरSun, 03 Dec 2023 11:10 PM
ऐप पर पढ़ें

जिले के सरकारी स्कूलों से अब शतरंज के विश्वनाथन आनंद निकलेंगे। हर सरकारी स्कूल में बच्चे शतरंज खेलेंगे और खेलने में माहिर होंगे। सभी सरकारी स्कूलों में बच्चों अध्यापक शतरंज खेलना सिखाएंगे। बहुत जल्द जिला मुख्यालय बीएसए कार्यालय पर आयोजित कार्यशाला में व्यायाम शिक्षक, ब्लाक व्यायाम शिक्षक और अनुदेशकों को शतरंज खेलना सिखाकर इस पहल की शुरुआत की जाएगी।

जिले में 2120 सरकारी स्कूल है। अधिकांश स्कूल ग्रामीण क्षेत्र में हैं। ग्रामीण क्षेत्र में खेल प्रतिभाओं का खजाना है लेकिन तरासने की जरुरत है। अगर संसाधन मिले तो जिले की माटी से एक से बढ़कर खेल प्रतिभाएं निकले। अब जिले के सरकारी स्कूलों से शतरंज में खेल प्रतिभाएं तरासी जाएंगी। बेसिक स्कूलों में शतरंज के खिलाड़ी निकालने की पहल शुरु हो रही है। जिले के हर सरकारी स्कूल में बच्चों को शतरंज खिलाई जाएंगी। इससे पहले जिला मुख्यालय पर कार्यशाला में व्यायाम शिक्षकों के साथ अनुदेशकों को शतरंज में एक्सपर्ट किया जाएगा। बाद में यह ब्लाकों में अध्यापकों को शतरंज खेलना सिखाएंगे। सभी सरकारी स्कूलों में बच्चों को शतरंज खेलना सिखाया जाएगा और शतरंज प्रतियोगिता कराई जाएंगी। शतरंज के प्रतिभाशाली खिलाड़ियों को पुरस्कार देकर सम्मानित किया जाएगा। अफसरों का प्रयास होगा कि जिले के हर सरकारी स्कूलों में शतरंज के खिलाड़ी निकले। बीएसए का कहना है डीएम की मंशा है कि सरकारी स्कूलों में भी अन्य खेलों के साथ बच्चे शतरंज खेले।

-------------

अध्यापक बच्चों को सिखाएंगे शतरंज खेलना

अरविंद कुमार अहलावत जिला व्यायाम शिक्षक बेसिक शिक्षा बिजनौर ने बताया कि व्यायाम शिक्षक, ब्लाक व्यायाम शिक्षक और अनुदेशकों को जिला मुख्यालय पर होने वाली कार्यशाला में शतरंज खेलना और नियम कायदे सिखाए जाएंगे। उसके बाद वह ब्लाक स्तर पर स्कूलों में अध्यापकों को शतरंज में ट्रेंड करेंगे और स्कूलों में शतरंज की प्रतियोगिता कराई जाएंगी। अब बहुत जल्द हर स्कूल में बच्चे अन्य खेलों के साथ शतरंज खेलने नजर आएंगे।

--------------

कोट ------

जिले में सरकारी स्कूलों से शतरंज के प्रतिभावन खिलाड़ी तरासे जाएंगे। इसी क्रम में जिले के समस्त सरकारी स्कूलों में बच्चों को शतरंज खिलाई जाएंगी। जिला मुख्यालय पर आयोजित कार्यशाला में अनुदेशक से लेकर व्यायाम शिक्षकों को शतरंज के गुर सिखाए जाएंगे। प्रयास किए जाएंगे कि सरकारी स्कूलों से निकले शतरंज के खिलाड़ी जिले का नाम रोशन करें।

जयकरन यादव, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी बिजनौर

---------

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें