DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  बिजनौर  ›  प्रबंध निदेशक के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज होने से चीनी मिल में हड़कंप

बिजनौरप्रबंध निदेशक के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज होने से चीनी मिल में हड़कंप

हिन्दुस्तान टीम,बिजनौरPublished By: Newswrap
Mon, 24 May 2021 09:40 PM
प्रबंध निदेशक के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज होने से चीनी मिल में हड़कंप

सहकारी चीनी मिल संघ के पूर्व प्रबंध निदेशक के खिलाफ सीबीआई ने प्राथमिकी दर्ज कर ली है। इसे लेकर बिजनौर की नजीबाबाद चीनी मिल में भी हड़कंप मचा हुआ है। सीबीआई की जांच की आंच यहां तक भी पहुंच सकती है। दरअसल बीके यादव प्रबंध निदेशक बनने से पहले सहकारी चीनी मिल नजीबाबाद के जीएम भी रह चुके हैं।

प्रदेश में भाजपा की सत्ता ने के साथ ही सहकारी चीनी मिल संघ के प्रबंध निदेशक रहे वीके यादव के खिलाफ सीबीआई जांच की सिफारिश की गई थी। सीबीआई ने शुरुआती जांच करते हुए आखिरकार चीनी मिल संघ के पूर्व प्रबंध निदेशक बीके यादव के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर ली है। बताते चलें कि सपा सरकार के दौरान बीके यादव पर सहकारी चीनी मिल संघ के प्रबंध निदेशक का चार्ज रहा है, उनकी नियुक्ति प्रबंध निदेशक के तौर पर तो नहीं हुई थी, लेकिन उन्होंने करीब 4 साल तक प्रबंध निदेशक का कार्यभार संभाला। प्रदेश में भाजपा की सरकार आई तो बीके यादव केंद्र सरकार के कृषि विभाग लौट गए। उधर भाजपा की प्रदेश सरकार ने प्रबंध निदेशक रहे बीके यादव के खिलाफ सीबीआई जांच की सिफारिश की थी।

जिन पर सहकारी चीनी मिलों में गलत तरीके से नियुक्ति और तबादला समेत तमाम आरोप लगे थे। सीबीआई ने शुरुआती जांच के बाद पूर्व प्रबंध निदेशक के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर ली है। सूत्रों की माने तो प्रबंध निदेशक रहते हुए बीके यादव ने सहकारी चीनी मिल नजीबाबाद में भी कई नियुक्तियां की थी। इसके अलावा नजीबाबाद सहकारी चीनी मिल के चार अधिकारियों को फेडरेशन में नियुक्त कर लिया था। वहीं कई अन्य निर्णय भी प्रबंध निदेशक ने लिए थे। सूत्र बताते हैं कि पूर्व प्रबंध निदेशक बीके यादव के दौर में चीनी मिल स्तर पर होने वाले सभी टेंडर फेडरेशन स्तर पर होने लगे थे। तमाम अहम निर्णय जो चीनी मिल के जीएम ले सकते थे, उन्हें भी प्रबंध निदेशक स्तर पर लिया जाने लगा था। अब सीबीआई की जांच की आंच नजीबाद सहकारी चीनी मिल तक भी पहुंच सकती है। जिसे लेकर चीनी मिल के अधिकारियों और कर्मचारियों में हड़कंप मचा हुआ है। सूत्रों का कहना है कि बीके यादव ने सहकारी चीनी मिल नजीबाबाद का जीएम रहते हुए भी कई कर्मचारी और अधिकारियों के विभागीय तबादले किए थे। अब तबादला और नियुक्ति को लेकर ही सीबीआई जांच बैठी हुई है।

बैंड बाजे से होता था स्वागत

बीके यादव सहकारी चीनी मिल संघ के प्रबंध निदेशक हुआ करते थे। उस दौर में नजीबाबाद चीनी मिल का निरीक्षण करने के दौरान भी उनका बैंड बाजों से स्वागत हुआ करता था। हिंदुस्तान ने बाकायदा उस वक्त इस खबर को प्रमुखता से प्रकाशित किया था। हिंदुस्तान ने 'एमडी साहब या दुल्हे राजा मिल में बजा बैंड बाजा'शीर्षक के साथ खबर भी प्रकाशित की थी।

- वीके यादव नजीबाबाद सहकारी चीनी मिल के भी जीएम रह चुके हैं। जिन्होंने अपने कार्यकाल में कई प्रमोशन और तबादले किए। सहकारी चीनी मिल संघ का प्रबंध निदेशक बनने के बाद उन्होंने चीनी मिलों को लेकर अहम फैसले किए हैं। नियुक्ति भी की हैं। सीबीआई की जांच में तमाम पहलू सामने आ सकते हैं।

-राघव प्रताप सिंह, पूर्व संचालक सहकारी चीनी मिल नजीबाबाद

संबंधित खबरें