DA Image
18 अक्तूबर, 2020|9:04|IST

अगली स्टोरी

शुगर मिल तैयार, किसानों का बकाया 630 करोड़ का भुगतान

default image

शुगर मिलों नए पेराई सत्र प्रारंभ करने की तैयारियों को अंतिम रुप दिया जा चुका। त्यौहारों का सीजन भी प्रारंभ हो गया है, लेकिन शुगर मिलों पर पिछले पेराई सत्र का किसानों का करीब 630 करोड़ रुपये का भ्रुगतान बकाया है। भुगतान न मिलने के कारण किसान आर्थिक स्थिति से जूझ रहे हैं।

जिले की चीनी मिल चलने को तैयार है। अक्टूबर के अंत और नवम्बर माह के पहले सप्ताह में चीनी मिल चल जाएगी। चीनी मिलों को चलाने की पूरी तैयारी है लेकिन अभी तक चीनी मिलों ने पिछले वर्ष का किसानों को बकाया गन्ना मूल्य भुगतान नहीं किया है। करीब 630 करोड़ रुपया किसानों का चीनी मिलों ने दबा रखा है। किसान धरने प्रदर्शन कर रहा है लेकिन चीनी मिल भुगतान देने के नाम पर रुला रही हैं। बिजनौर चांदपुर और बिलाई चीनी मिल की भुगतान देने की रफ्तार काफी धीमी है। हालात ऐसे है कि किसान बच्चों की फीस तक जमा नहीं कर पा रहे हैं, जबकि स्कूल लगातार फीस जमा करने का दबाव बना रहे हैं। नवरात्र चल रहे हैं। दशहरा, दीपावली, गंगा स्नान, करवाचौथ, धनतेरस आदि किसानों के त्योहार आने वाले हैं। इन त्योहारों में किसानों को पैसे की जरुरत होती है। किसान आस लगाए बैठे हैं कि चीनी मिल भुगतान करेंगी ताकि त्योहार अच्छे से मना लिए जाएंगे। अगर चीनी मिलों ने समय रहते किसानों को बकाया गन्ना मूल्य भुगतान नहीं किया तो किसानों के त्योहार फीके रहेंगे। पैसे के अभाव में त्योहार बेरौनक हो जाएंगे। डीएम व जिला गन्ना अधिकारी लगातार चीनी मिलों पर दबाव बना रहे हैं ताकि चीनी मिल किसानों को समय पर बकाया गन्ना मूल्य भुगतान कर दें।

- किसानों को बकाया गन्ना मूल्य भुगतान दिलाने के लिए हर सम्भव प्रयास किया जा रहा है। डीएम हर सप्ताह चीनी मिल अधिकारियों की मीटिंग लेकर भुगतान का लक्ष्य देते हैं। चीनी मिल भुगतान कर भी रही है। भुगतान के लिए चीनी मिलों पर लगातार दबाव बनाया जा रहा है। भुगतान के लिए किसानों को परेशान नहीं होने दिया जाएगा। प्रयास किया जा रहा है कि जल्द ही किसानों को बकाया भुगतान कराया जाए, ताकि किसानों को राहत मिले।

- यशपाल सिंह, जिला गन्ना अधिकारी, बिजनौर

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Sugar mill ready farmers owe 630 crore