DA Image
Monday, December 6, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश बिजनौर...कभी आंख कभी चेहरे बदल कर बात करते हैं

...कभी आंख कभी चेहरे बदल कर बात करते हैं

हिन्दुस्तान टीम,बिजनौरNewswrap
Sun, 14 Nov 2021 10:10 PM
...कभी आंख कभी चेहरे बदल कर बात करते हैं

अखिल भारतीय उर्दू शिक्षक संघ बिजनौर की ओर से मुशायरे का आयोजन किया गया। उर्दू शायरी में लिए योगदान के लिए शायरों को सम्मानित किया गया।

अदब सिटी में डॉ. रिजवान अहमद की अध्यक्षता में महफिल-ए-मुशायरे का आयोजन किया गया। मुशायरे में शायर महेंद्र अश्क ने मुद्दतों बाद मुझसा मिला था कोई, उसकी दीवार के साए में खड़ा था कोई, डॉ.आफताब नोमानी ने अमीरे शहर हदो से गुजरने वाला है, वाहिद जमाल ने कभी आंख कभी चेहरे बदल कर बात करते हैं, डॉ. इलियास अंसारी ने राज दिल का होगा क्या सुनाने से, लोग कह देते हैं जमाने से, कुमार मोनू ने दुआ कौन देगा दवा कौन देगा, उबैद अहमद ने मैं कैसे मान लूं मुझे मंजिल ना मिलेगी, चींटी उतार लाई है खाना मचान से, सहित सैयद अहमद, शाकिर रिजवी, डॉ. शुएब नफीस, अख्तर मुलतानी, अकरम, शादाब मुल्तानी, मुकीम अहमद ने कलाम पेशकर दाद बटोरी। मुशायरे में मोलाना तसलीम अहमद, डॉ.शहला अंजुम, नफीसा खातून, आबिद कुरैशी, इरशाद हुसैन, तनवीर अहमद, यूसुफ, मो. आसिम, मो. अरीब, अब्दुल मलिक, शाहिद अहमद, डॉ.महफूज अली एवं जुल्फकार आदि मौजूद रहे।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें