DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मूसलाधार बारिश से जनजीवन प्रभावित, लाखों का नुकसान

मूसलाधार बारिश से जनजीवन प्रभावित, लाखों का नुकसान

1 / 2चौबीस से लगातार हो रही मूसलाधार मानसूनी बारिश किसानों व आम लोगों के आफत बनी हुई है। अधिक बारिश होने से नदियां उफान पर है, खेत जलमग्न होने के कारण गन्ने की फसल व पशुओं के चारे की फसल को भारी नुकसान...

मूसलाधार बारिश से जनजीवन प्रभावित, लाखों का नुकसान

2 / 2चौबीस से लगातार हो रही मूसलाधार मानसूनी बारिश किसानों व आम लोगों के आफत बनी हुई है। अधिक बारिश होने से नदियां उफान पर है, खेत जलमग्न होने के कारण गन्ने की फसल व पशुओं के चारे की फसल को भारी नुकसान...

PreviousNext

चौबीस से लगातार हो रही मूसलाधार मानसूनी बारिश किसानों व आम लोगों के आफत बनी हुई है। अधिक बारिश होने से नदियां उफान पर है, खेत जलमग्न होने के कारण गन्ने की फसल व पशुओं के चारे की फसल को भारी नुकसान पहुचा है।

कई गांवो मे संपर्क मार्ग व नहरे टूटने के कारण रास्ते बंद हो गये है।मूसलाधार वर्षा से क्षेत्र के गांव कल्लूवाला, माधोवाला, पुक्खेवाला, मौहम्मद अलीपुर पट्टाघाट, केहरीपुरजंगल, दहलावाला, जाब्तानगर, ढकिया गांव जलमग्न हो गये। घरों मे पानी घुसने से घर मे रखा घरेलू सामान बेकार हो गया। बारिश के कारण रेहड़ निवासी नरेश गिरी पुत्र मुकंदी गिरी व हरि सिंह कश्यप पुत्र किशोरी सिंह का मकान गिर गया। गांव रानीनांगल मे स्थित प्राथमिक विद्यालय मे एचटी लाईन का विद्युत पोल टूटकर गिर गया। छतरीपट्टा मे शहजान पुत्र मौ. रजा के घर मे पानी घूसने से घर व आटा चक्की मे रखा राशन व अन्य उपकरण खराब हो गये उधर गांव के ही निवासी इकरामुद्दीन पुत्र निजामुद्दीन की पशुशाला का शेड गिरने से उसमे खड़ा टैªक्टर मलबे मे दब गया व वहॉ बंधी दो भैंस एक गाय घायल हो गयी। गांव घासीवाला निवासी सरदार हरवेन्द्र सिंह का कहना है कि धारा नदी के कटान से लगभग आधा दर्जन किसानो की कई एकड़ गन्ने की फसल नदी मे बह गयी। गांव ढकिया निवासी बलदेव शर्मा, संदीप शर्मा, वीरेन्द्र शर्मा, जोगा सिंह का कहना है कि बरसात के समय उनके रास्ते टूट जाते है व जलनिकासी न होने के कारण उनके घरों मे पानी भर जाता है। कई गांवो के रास्तों मे जलभराव हो जाने के कारण ग्रामीणों का कई घंटो तक संपर्क मुख्य मार्गों से टूटा रहा है। जेई लोकेन्द्र सिंह का कहना है कि क्षेत्र मे बाढ़ की स्थिती पर नियंत्रण बनाये रखने के लिये 6 हजार क्यूसेक पानी पीलीडॉम बैराज से बनैली नदी मे छोड़ा गया है फिलहाल 834.50 फीट पानी पीलीबांध जलाशय मे भंडारण कर लिया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Shops, house submerged by torrential rains, have fallen