DA Image
Thursday, December 9, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश बिजनौरपौधों की सिंचाई में जल संरक्षण में अहम होगा प्लांट

पौधों की सिंचाई में जल संरक्षण में अहम होगा प्लांट

हिन्दुस्तान टीम,बिजनौरNewswrap
Thu, 08 Jul 2021 04:30 AM
क्षेत्र के गांव फीना निवासी इंजीनियर हेमन्त कुमार के कंट्रोल्ड वाटर एंड एयर डिस्पेंसर फॉर इनडोर एंड आउटडोर प्लांट नामक आविष्कार के क्रियाकारी...
1/ 2क्षेत्र के गांव फीना निवासी इंजीनियर हेमन्त कुमार के कंट्रोल्ड वाटर एंड एयर डिस्पेंसर फॉर इनडोर एंड आउटडोर प्लांट नामक आविष्कार के क्रियाकारी...
क्षेत्र के गांव फीना निवासी इंजीनियर हेमन्त कुमार के कंट्रोल्ड वाटर एंड एयर डिस्पेंसर फॉर इनडोर एंड आउटडोर प्लांट नामक आविष्कार के क्रियाकारी...
2/ 2क्षेत्र के गांव फीना निवासी इंजीनियर हेमन्त कुमार के कंट्रोल्ड वाटर एंड एयर डिस्पेंसर फॉर इनडोर एंड आउटडोर प्लांट नामक आविष्कार के क्रियाकारी...

क्षेत्र के गांव फीना निवासी इंजीनियर हेमन्त कुमार के कंट्रोल्ड वाटर एंड एयर डिस्पेंसर फॉर इनडोर एंड आउटडोर प्लांट नामक आविष्कार के क्रियाकारी सिद्धांत को भारत सरकार के बौद्धिक सम्पदा केंद्र ने पेटेंट प्रदान किया है। इस अविष्कार का पेटेंट नंबर 370026 है। इस सिद्धांत पर बना उपकरण पौधों की महीनों तक स्वतः सिंचाई कर सकता है। जल सरंक्षण दृष्टि से यह नव अन्वेषित इस उपकरण में पानी हाथ से भरा जाता है। पौधे की जरूरत के मुताबिक भेजे जाने वाली पानी की मात्रा उपकरण में लगे नॉब से सेट कर दी जाती है। इसके बाद उपकरण पानी की तय मात्रा खुद ब खुद पौधों तक पहुंचता रहता है। उपकरण को बिजली या सेल या अन्य किसी बाहरी उर्जा की जरूरत नहीं पड़ती।

इस उपकरण को एक लीटर से लेकर कितनी भी क्षमता का बनाया जा सकता है। ऑटोमेशन के लिए पानी की स्थैतिक उर्जा (स्टेटिक एनर्जी) का प्रयोग किया गया है। इस उपकरण से पानी सीधे पौधे के जड़ क्षेत्र में पहुंचता है। इसलिये अन्य उपकरणों की तुलना में पानी की सिंचाई क्षमता तुलनात्मक रूप से बढ़ जाती है। इस खासियत के चलते रेगिस्तानी और दुर्गम स्थानों के लिए यह आविष्कार बहुत उपयोगी है। जिन पौधों की जड़ लगातार नमी या पानी की थोड़ी अधिक मात्रा से कुप्रभावित हो जाती है, उन पौधों के लिये यह उपकरण बहुत फायदेमंद है। चूंकि कम पानी से ही अधिक समय तक सिंचाई हो जाती है, इसलिये इस आविष्कार से पानी भी बचेगा। हेमंत कुमार सिंचाई विभाग उत्तर प्रदेश में सहायक अभियंता के पद पर कार्यरत हैं।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें