People from dreadful heat - भयंकर गर्मी में झुलस रहा जिला DA Image
7 दिसंबर, 2019|9:35|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भयंकर गर्मी में झुलस रहा जिला

भयंकर गर्मी में झुलस रहा जिला

1 / 2भीषण गर्मी में जिले के लोग झुलस रहे हैं। गर्मी इतनी है कि लोगों का बुरा हाल है। जिले में गर्मी का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा। आसमान से बरस रही आग लोगों को झुलसा रही है। दस बजे के बाद लोगों गर्मी से...

भयंकर गर्मी में झुलस रहा जिला

2 / 2भीषण गर्मी में जिले के लोग झुलस रहे हैं। गर्मी इतनी है कि लोगों का बुरा हाल है। जिले में गर्मी का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा। आसमान से बरस रही आग लोगों को झुलसा रही है। दस बजे के बाद लोगों गर्मी से...

PreviousNext

भीषण गर्मी में जिले के लोग झुलस रहे हैं। गर्मी इतनी है कि लोगों का बुरा हाल है। जिले में गर्मी का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा। आसमान से बरस रही आग लोगों को झुलसा रही है।

दस बजे के बाद लोगों गर्मी से बचने के लिए घरों में रहना ही पसंद कर रहे हैं। रविवार को जिले का अधिकतम तापमान 40.2और न्यूनतम तापमान 27.3डिग्री सेल्सियस रहा। दिन-प्रतिदिन गर्मी की मार जिले के लोगों पर बढ़ती जा रही है। सूरज बिना थमे आग उगल रहा है। आसमान से बरस रही आग से जिले के लोग झुलस रहे हैं। जिले में लगातार बढ़ रहा तापमान लोगों को रुला रहा है। गर्मी से जीना दूभर हो गया है। गर्मी इतनी ज्यादा है कि पंखें और कूलर फेल हो चुके हैं। गर्मी के चलते बाजारों में सन्नाटा पसर गया है। चौराहों पर दोपहर होते ही कोई दिखाई नहीं देता। बच्चे, वृद्ध व महिला जो घरों से खुद को कपड़ों में लिपेटकर निकले ताकि तेज धूप से बचा जा सके। स्कूटी पर महिलाएं अपने हाथों और मुंह को कपड़ों से लिपेटकर निकल रही हैं। भीषण गर्मी से बचने के लिए लोग खुद को घरों में कैद करने को मजबूर हो गए हैं। सवेरे आठ बजते ही सूरज आग उगलने लगता है। सूरज की तपिश के सामने थोड़ी देर भी ठहरना मुश्किल हो रहा है। सवेरे से शाम तक जिले के लोग गर्मी से पसीना पसीना दिखाई दिए। बच्चों ने नलकूपों पर स्नान कर गर्मी से बचने की कोशिश की। लगातार गर्मी बढ़ रही है। :::::::::::::::::::गर्मी और लू से बचने के लिए पुराने जमाने के नुस्खे आज भी कारगरयदि सीने में जलन और उल्टी होने लगे, तो रोगी को पुदीना और सौंफ का अर्क पानी में मिलाकर देने से कुछ समय में ‘लू का प्रकोप कम किया जा सकता है। कपूर, सत अजवाइन और पिपरमेंट को बराबर मात्रा में मिलाकर देने से यह द्रव्य का रूप ले लेता है। इसकी दो-दो बूंद बताशे में देने से भी अप्रत्याशित लाभ पहुंचता है। रोगी को प्याज का रस और उबले हुए कच्चे आम का शर्बत पिलाना भी लाभदायक होता है। तुलसी के पत्तों में शक्कर मिलाकर देने से भी लू में राहत मिलती हैं। इसके अलावा चंदन का शर्बत, हरे धनिए की चटनी, पालक की सब्जी, साबूदाना आदि भी लू के उपचार में खासे गुणकारी होते हैं। ‘लू लगने पर रोगी को हाथ-पैर और तलुओं में सूखे चने के साग की पत्तियों को घिसकर मलने तथा सुंघाने से भी लाभ होता है। खोये के एक पेड़े को एक गिलास पानी में घोलकर पिलाने से तुरंत राहत मिलती है। वहीं ‘लू को सामान्य तरीके से न लेते हुए चिकित्सक का परामर्श आवश्यक है।:::::::::::::::::::::::

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:People from dreadful heat